रणजीतकुमारभारती,जयनगर(कोडरमा):एकओरजहांपूराविश्वकोरोनावायरसजैसेमहामारीसेलड़रहाहैवहींदूसरीओरसीमितसंसाधनोंकेबावजूदभीनौशादअंसारीअपनेचारएकड़खेतमेंहरीसब्जियांउगारहेहैं।हालांकिइसचिलचिलातीधूपमेंकठिनपरिश्रमकेबादभीउन्हेंफिलहालमेहनतानाभीनहींमिलपारहाहै।बावजूदवेअपनेफसलोंकोबचानेकीजद्दोजहदमेंलगेहुएहैं।अपनेखेतकेपाससेगुजरीएकछोटेसेनालेकेसहारेनौशादअंसारीलगभगचारएकड़मेंकईप्रकारकेगरमासब्जीउगारहेहैं।इनसब्जियोंमेंबैगन,टमाटर,शिमलामिर्च,खीरा,सलजम,मिर्च,मूलीसहितआदिशामिलहैं।जयनगरथानासेलगभगतीनकिलोमीटरदूरबूटबरियामेंचारएकड़भूमिपरनौशादकाफीबेहतरखेतीकररहेहैं।नौशादअंसारीनेबतायाकिइसकोरोनाजैसेमहामारीकेदौरमेंउन्हेंउनकेसब्जियोंकामेहनतानाभीनहींमिलपारहाहै।जबऐसीस्थितिनहींथीतोअन्यजगहोंसेजयनगरमेंसब्जीनहींपहुंचताथा।परंतुआजकईजगहोंसेलोगसब्जीबेचनेजयनगरपहुंचजातेहैं,जिससेउनकासब्जीपूरीतरहसेबिकनहींपाताहैऔरसब्जीबर्बादहोजाताहै।लगभगपांचकट्ठामेंलगाटमाटरपूरीतरहसेपकगयाहै,परंतुकोईखरीदारनहींमिलरहाहै।हां,जोलोगउन्हेंजानतेहैंवेखेतमेंहीपहुंचकरउनकीसब्जीखरीदरहेहैं।नौशादअंसारीनेबतायाकिजोव्यक्तिउनकेखेततकपहुंचकरसब्जीखरीदरहेहैंउन्हेंकाफीसस्तीदरोंमेंसब्जीलेजारहेहैं।उन्होंनेकहाकिअबतोइनसब्जियोंकोधूपसेबचानाभीकाफीमुश्किलहोगयाहै,क्योंकिपासमेंएकछोटासानालाबहरहाहैवहभीअबसूखनेकेकगारपरहै।सिचाईकाएकमात्रसाधनयहीनालाहै।अगरइसनालेमेंजेसीबीलगाकरगड्ढानहींकियागयातोउनकाचारएकड़मेंलगासब्जीसूखजाएगाजिससेउनकीकमरटूटजाएगी।उन्होंनेप्रखंडप्रशासनसेसहयोगकीगुहारलगातेहुएकहाहैकिअगरउक्तनालेमेंथोड़ासागड्ढाकरनेकोलेकरसहयोगकरदियाजाएतोवेफसलकोबचासकतेहैं।वेप्रशासनकेडरसेजेसीबीलगानेमेंभीडररहेहैं।

By Farrell