गोपालगंज।रबीअभियानमेंगेहूंकीबुआईकाकार्यअबजोरपकड़चुकाहै।कईइलाकोंमेंगेहूंकी¨सचाईकाकार्यभीजल्दहीशुरूहोजाएगा।लेकिनसरकारीसंसाधनखेतोंकी¨सचाईकेसमयभीबेकारपड़ेहुएहैं।ऐसेमेंवर्तमानरबीअभियानमेंभीकिसानोंकोखेतोंकी¨सचाईकेलिएनिजीपंपसेटोंकाहीसहारालेनेकोविवशहोनाहोगा।

वर्तमानसमयमेंकटेयाप्रखंडसहितकईइलाकोंमेंगेहूंकी¨सचाईभीशुरूहोगईहै।लेकिन¨सचाईकेसमयसरकारीनलकूपकिसानोंकोधोखादेरहेहैं।जिसेकिसानोंकीपरेशानीकाफीबढ़गईहै।ऐसीस्थितिजिलेमेंअधिकांशसरकारीनलकूपोंकेखराबपड़ेहोनेसेउत्पन्नहुईहै।हालांकिविभागखराबनलकूपोंकोसमयसेठीककरचालूकरनेकादावाकरतारहा।लेकिन¨सचाईकेसमयविभागकायहदावाफेलसाबितहोरहाहै।

आधिकारिकसूत्रोंनेबतायाकिराजकीयनलकूपविभागनेजिलेमें145नलकूपोंकोलगायाहै।इनमेंसेकुछनलकूपतोआजतकचलेहीनहींहैं।विभागकेदावोंकेअनुसारजिलेमें81नलकूपइससमयविभिन्नकारणोंसेठपपड़ेहुएहैं।शेष54नलकूपचलायमानहैं।येनलकूपवर्तमानसमयमेंकरीब150हेक्टेयरजमीनकीही¨सचाईकररहेहैं।यानिएकनलकूपकरीबकरीबतीनहेक्टेयरजमीनकीही¨सचाईकाकामकरपारहाहै।उधरजिलाकृषिकार्यालयकेवलबीसहेक्टेयरखेतोंकी¨सचाईराजकीयनलकूपोंसेहोनेकादावाकररहाहै।विभागीयआंकड़ोंकीमानेंतोनलकूपविभागमेंकार्यरतकर्मचारियोंकेवेतनमदमेंसरकारकोप्रतिवर्षदोकरोडसेअधिककीराशिखर्चकरनापड़रहाहै।यानिएकहेक्टेयरजमीनकी¨सचाईकरनेमेंसरकारकोकरीबदोलाखरुपयेखर्चकरनापड़रहाहै।हालांकिनलकूपविभागनेपिछलेएकदशकसेखेतोंकी¨सचाईकीक्षमताकोबढ़ानेकेदिशामेंप्रयासकरनेकादावाकियाहै।बावजूदइसके¨सचाईकीक्षमतामेंकोईभीवृद्धिनहींहोसकीहै।गेहूंकीफसलकी¨सचाईकेसमयभीअधिकांशसरकारीनलकूपबंदपड़ेहैं।किसप्रखंडमेंकितनेनलकूप

प्रखंडकुलकार्यरतबंद