खगड़िया।संपूर्णजिलेमेंसरकारीविद्यालयरामभरोसेसंचालितकिएजारहेहैं।अपवादकोछोड़देंतोशहरसेलेकरगांवोंतकमेंसरकारीविद्यालयोंमेंपठन-पाठनव्यवस्थाचरमराकररहगईहै।सर्वाधिकखराबस्थितिअलौलीप्रखंडकीहै।अभीभीकईविद्यालयभवनकीकमी,शिक्षकोंकीकमीसेजूझरहेहैं।ऐसेमेंगुणवत्तापूर्णशिक्षाकीबातकरनाबेमानीहै।

प्राथमिकविद्यालयलक्ष्मीपुरमेंवर्गएकसेपांचतककीपढ़ाईहोतीहै।परंतु,यहांमात्रतीनशिक्षककार्यरतहैं।बहादुरपुरपंचायतकायहविद्यालयअभीभीझोपड़ीमेंसंचालितकियाजारहाहै।विद्यालयकोअपनीजमीननहींहै।सड़ककिनारेझोपड़ीडालकरविद्यालयकासंचालनकियाजाताहै।यहांकेप्रधानाध्यापकरामदेवकुमारनेकहाकिविद्यालयकोअपनीजमीननहींहै।इसलिएभवननहींबनाहै।इसकोलेकरअधिकारियोंकोलिखागयाहै।सबसेबड़ीबातयहहैकिइन्हेंपूर्वकेप्रधानाध्यापकनेअबतकपूर्णचार्जनहींदियाहै।जबकियेतीनवर्षसेप्रधानाध्यापककेपदपरमौजूदहैं।स्थितिकासहजअंदाजालगायाजासकताहै।बहादुरपुरपंचायतकेही

मध्यविद्यालयपोखरामेंवर्गएकसेआठतककीपढ़ाईहोतीहै,लेकिनप्रधानाध्यापकसमेतमात्रतीनशिक्षकहैं।प्रधानाध्यापककोविभागीयकार्यसेबाहरभीरहनापड़ताहै।ऐसेमेंपठन-पाठनकाअंदाजालगायाजासकताहै।

प्रधानाध्यापकराजीवकुमारनेबतायाकिकुलतीनशिक्षकहैं।जिनमेंएकशिक्षकको-ऑर्डिनेटरहैं।शिक्षकोंकीकमीकोलेकरविभागकोलिखागयाहै।जबकिपोषकक्षेत्रकेकईलोगोंनेइसओरवरीयअधिकारियोंकाध्यानआकृष्टकरायाहै।यहांसमुचितमात्रामेंशिक्षकोंकीनियुक्तिकीमांगकीहै।