अलीगढ़,जेएनएन।सेवाकरनेकेतमामरास्तेहैं।लोगअलग-अलगतरीकेसेकार्यकरतेहैं।कुछलोगोंकीइतनीसक्रियतारहतीहैकिफोनआतेहीसुविधापहुंचादेतेहैं।उड़ानसोसायटीभीइसीअनुसारकार्यकरतीहै।कहींभीकोईफोनआताहैसोसायटीकेपदाधिकारीमददकोपहुंचजातेहैं।अभीहालमेंएकरिक्शाचालककोफोनआनेपरमहीनेभरकाराशनदिया।तमाममरीजोंकोअस्पतालमेंपहुंचानेऔरउनकीमददकरनेकाभीकामकरतेहैं।

ऐसेकीगरीबोंकीसेवा

सेवाकार्यमेंसबसेसक्रियताकीसबसेअधिकजरूरतहै।यदिकिसीकोमददकीजरूरतहोतीहैऔरसमयपरनमिलेतोसेवाकार्यकामहत्वकमहोजाताहै।तमामऐसेलोगहैं,जिन्हेंभोजन,राशन,दवाआदिकीजरूरतपड़तीहै,वोभटकतेरहतेहैं,कईलोगउन्हेंदेखकरइग्नोरभीकरदियाकरतेहैं,जिससेव्यक्तिकोमददनहींमिलपातीहै।मगर,उड़ानसोसायटीकीटीमइसमामलेमेंकाफीसक्रियरहतीहै।टीमकेसदस्यमददकेलिएतुरंतपहुंचतेहैं।अभीहालमेंएकरिक्शाचालकपुलिसलाइनकेपाससेजारहाथा।उसेदोदिनोंसेसवारियांनहींमिलरहीथीं,इसलिएउसकेपासपैसेनहींथे।भूखसेवोबिलखरहाथा।एकराहगीरसेउसनेमददमांगी।राहगीरनेतुरंतउड़ानसोसायटीकेडायरेक्टरडा.ज्ञानेंद्रमिश्राकोफोनमिलादिया।उन्होंनेतुरंतरिक्शाचालककोरेलवेस्टेशनकेपासबुलालिया।उसेपैसेकेसाथमहीनेभरकाराशनदिया।साथहीकहाकिआगेयदिमददकीजरूरतहोतोवोपूरासहयोगकरेंगे।अभीकुछदिनपहलेनगलातिकोनामेंएकमजदूरकेपैरमेंफैक्चरहोगयाथा।डा.ज्ञानेंद्रमिश्राकोजानकारीहुईतोउन्होंनेतुरंतटीमकोभेजा।मजदूरकाइलाजकराया।दवाऔरप्लास्टकेपैसेभीदिए।

दोबहनोंकीसेवाकी

कुलदीपविहारमेंदोबहनोंकीशादीथी।परिवारकीआर्थिकस्थितिकाफीठीकनहींथी।डा.ज्ञानेंद्रमिश्राकोपताचलातोउन्होंनेदोनोंबहनोंकीशादीकाइंतजामकराया।बेड,अलमारी,ड्रेसिंगटेबल,बर्तन,सिलाईमशीन,कुर्सीआदिदिलवाई।ज्ञानेंद्रमिश्राकाकहनाहैकिहमारीकोशिशहोतीहैकिसमयसेजरूरतमंदतकमददपहुंचाईजाए।इसलिएसड़कपरकोईभीमरीजदिखाईपड़ताहैतोटीमतुरंतउसेअस्पतालपहुंचानेकाकार्यकरतीहै।उसकीदेखरेखऔरदवाकीभीव्यवस्थाकरतीहै।इसलिएदिल्ली,मुंबई,पुणेआदिशहरोंकेछात्रउड़ानसोसायटीमेंसेवाकार्यकाप्रशिक्षणलेनेआतेहैं,जिससेवोभीबेहतरतरीकेसेकार्यकरसकें।डा.ज्ञानेंद्रबतातेहैंकिइन12वर्षोंमें100सेअधिकछात्र-छात्राएंउनकेयहांसेप्रशिक्षणलेचुकेहैं।

By Edwards