जागरणसंवाददाता,राजाकारामपुर:गांवमेंबच्चोंकेपढ़नेकेलिएस्कूलनहींहै।वेदूसरेगांवमेंपढ़नेजातेहैं।गांवकीआबादीभीकमनहीं,लेकिनपर्याप्तमात्रामेंहैंडपंपतकनहींहैं,जिससेप्यासबुझाईजासके।भीषणगर्मीकेदिनोंमेंलोगोंकोपेयजलसंकटसेजूझनापड़रहाहै।सफाईकर्मचारीनियमितनहींआते,जिसकीवजहसेगांवमेंगंदगीकेढेरलगेरहतेहैं।यहस्थितिराजाकारामपुरब्लॉकक्षेत्रकेगांवनगलामालीकीहै।

गांवकीसबसेबड़ीऔरअहमसमस्यायहहैकियहांबच्चोंकीशिक्षाकेलिएस्कूलकाअभावहै।ग्रामीणबच्चेदोकिमीदूरराजाकारामपुरशिक्षापानेकेलिएजातेहैं।छोटेबच्चेजबरोडपरचलतेहैंतोमां-बापकाकलेजाधड़कतारहताहै।कुछमाता-पिताअपनाकामकाजछोड़करबच्चोंकोस्कूलछोड़नेएवंलेनेजातेहैंऔरकुछबच्चोंकोअकेलाभेजदेतेहैं।

नगलामालीमें1500कीआबादीमें800वोटरहैं।इसगांवमेंएकपुरानातालाबहै,जोकुछघरोंनिकलनेवालेगंदेपानीसेभराहै।जिसमेंकाफीगंदगीहै।उसेसाफकरनेकीकिसीनेजहमतनहींउठाई।गांवमेंगर्मियोंमेंहमेशापानीकीकमीहोतीहै।जलस्तरनिचलेस्तरपरपहुंचजाताहै,फिरभीप्रशासनयाग्रामप्रधानकीतरफसेतालाबकेलिएकोईप्रयासनहींकिएजाते।गांवमेंमात्रपांचसरकारीहैंडपंपहै,जोकिग्रामीणोंकीप्यासबुझानेमेंनाकाफीहैं।

कईअन्यबड़ीसमस्याएंहैंजैसेराशनकार्ड,आवासयोजना,शौचालय।गांवमेंआजतकस्वच्छभारतमिशनकेतहतकोईभीशौचालयनहींबनाहै,जिनकेयहांनिजीशौचालयहैवोतोठीकहैं,लेकिनकाफीलोगखुलेमेंशौचकोजातेहैं।गांवकेलोगोंकोइसयोजनाकेबारेमेंमालूमतकनहीं।

गांवमेंआजतककोईसरकारीयाप्राइवेटप्राइमरीशिक्षाकेलिएस्कूलनहींहैं।सरकारशिक्षापरकाफीजोरदेरहीहै,लेकिनइसगांवकीतरफआजतककिसीकीनिगाहनहींपहुंची।

गांवमेंसफाईकर्मचारियोंकीप्रतिदिनकेहिसाबसेनियुक्तिहो।गांवमेंसफाईरहेगीतोउसकाअच्छाप्रभावपड़ेगा।प्रत्येकघरकोस्वच्छभारतमिशनकेतहतशौचालयमिलेंजिससेलोगोंकाखुलेमेंशौचकाजानाबंदहो।

अगरप्रशासनसुनवाईकरेंतोगांवमेंसभीकेपासराशनकार्डहोंऔरसभीकोसस्ताअनाजमिले।तालाबकीसफाईकरवाकरस्वच्छपानीभराजाएऔरगांवखुशहालएवंसंपन्नहो।

शौचालय,गंदगी,स्कूलकाअभाव,चाहेकिसीभीप्रकारकीसमस्याक्योंनहोग्रामवासियोंद्वाराप्रयासतोकिए,लेकिनसुनवाईनहोनेसेकोईसफलतानहींमिली।

By Field