संघर्षसेबदलाजीवन,चंद्रकलानेबनाईपहचान

केतनआनंद,मेदिनीनगर(पलामू):राष्ट्रीयराजमार्ग-98मेंखनिजलदेबड़े-बड़ेवाहनोंसेउड़तेधूलवइसकेबीचसड़ककिनारेएकमेजपरखाने-पीनेकासामानबेचकरअपनावअपनेस्वजनोंकेलिएसंघर्षकररहीछतरपुरकीचंद्रकलाअबकिसीपरिचयकीमोहताजनहींहै।उन्होंनेअपनीकड़ीमेहनतसेनासिर्फएकबड़ाकारोबारखड़ाकिया,बल्किदूसरीमहिलाओंकेलिएअबप्रेरणाकीश्रोतबनगईहैं।यहसबएकदिनमेंनहींहोसका,बल्किविपरितपरिस्थितिमेंअपनेहौसलेकाबरकराररखनेकीहिम्मतवस्वजनोंकेसाथनेचंद्रकलाकोएकसफलव्यवसायीकेतौरपरस्थापितकरनेमेंमददकी।उनकेअंदरअपनाकुछकरनेकाजज्बातोथालेकिनउसकेसाथपूजींकाअभावभीथा।इसबीचचंद्रकलाजेएसएलपीएसकेद्वाराचलाएजारहास्टार्ट-अपग्रामउद्यमिताकार्यक्रम(एसवीइपी)सेजुड़ी।यहींसेउनकेतरक्कीवबदलावकीकहानीशुरूहोतीहै।खुशीआजीविकास्वयंसहायतासमूहकीसदस्यबननेकेबादउन्हेंअपनेउद्यमकोआगेबढ़ानेकेलिएसाथऔरहौसलामिला।एसवीइपीकेसहयोगसेउन्हेंअपनेउद्योगकोबढ़ानाशुरुकिया।उन्होंनेसमूहसे50हजारकेदोऋणलेकरअपनीदुकानकोविस्तारदिया।उन्होंनेअपनेसमूहकेबलपरएकबेकरीआरंभकरखुदकेकबनानेलगी।मेहनतकाफलसामनेनगजरआनेलगा।उन्होंनेनाअपनासाराऋणसफलतापूर्वकचुकादियासाथसमूहसेजुड़ेअन्यमहिलाओंकोप्रगतिकीराहदिखानेमेंजुटगईहै।चंद्रकलाबतातीहैकिकोईसाधननहींहोनेकेकारणमेरेलिएकुछकरनाबहुतकठिनथा।कोईपूंजीनहींथा।तरक्कीकीचाहतहोतेहुएभीकोईसाधननहींथा।अगरकुछथातोवहमेराआत्मविश्वास।इसपरस्टार्टअपकार्यक्रमकीमददसेदुकानसेअच्छीआमदनीहोजातीहै,बच्चेभीअबअच्छीशिक्षालेपारहेहै।चंद्रकलाअबअपनेसफलताकीकहानीकोअपनेजैसीमहिलाओंकेसाथसाझाकररहीहै।बतातीहैकिमेरंप्रयासोंसेअगरकोईअन्यमहिलास्वालंबीबनजाएतोयहींउनकेजीवनकीसबसेबड़ीउपलब्धिहोगी।

By Dunn