नीरजपराशर,चिंतपूर्णी

तापमानमेंलगातारवृद्धिहोनेसेचिंतपूर्णीक्षेत्रमेंवनसंपदाकेसाथकईवन्यप्राणियोंकाअस्तित्वखतरेमेंहै।ऊनाजिलामेंकुछवर्षोसेवन्यप्राणीअपनाअस्तित्वखोरहेहैंलेकिनउनकेसंरक्षणकेलिएकिएजारहेप्रयासनाकाफीदिखतेहैं।ऐसेमेंयहभीलगरहाहैकिनईपीढ़ीकेलिएपशु-पक्षीवपेड़पौधेसिर्फकिताबोंमेंहीदेखनेकोमिलें।

ऊनाजिलामेंपिछलेकईवर्षोमेंवनाग्निनेभारीतबाहीमचाईहै।क्षेत्रमेंचोरी-छिपेवन्यप्राणियोंकाशिकारकरनेवालोंकीकोईकमीनहींहै।साथमेंलगातारघटरहीवनसंपदाकेकारणभीवन्यप्राणियोंकोअपनाआपबचानामुश्किललगरहाहै।फायरसीजनमेंजबजंगलमेंआगलगतीहैतोउसवक्तक्षेत्रकेजंगलोंमेंपाईजानेवालीकईवन्यप्रजातियोंकाप्रजननकालभीहोताहै।कुछदिनोंबादबड़ीसंख्यामेंइनवन्यक्षेत्रोंमेंविचरनेवालेपक्षीजंगलीमुर्गी,तीतर,मोर,बटेर,क्लीज,कोयलऔरचिड़ियाकीकईप्रजातियांअंडेदेतीहैं।वहीं,अन्यप्राणियोंमेंकक्कड़,सांभर,खरगोश,सुअरऔरतेंदुआमेंसेकईकीप्रजननक्रियाकातोकईकामीटिगसीजनभीहोताहै।जंगलकीआगकेबादसबकुछतबाहहोजाताहै।कईवन्यप्राणियोंकोआगलगनेकेबादअसमयकालकाग्रासबननापड़ताहै।कईजानवरजोवनोंमेंआगलगनेकेबादभागजातेहैं,उन्हेंदोबाराअपनाठिकानाढूंढनामुश्किलहोजाताहै।फायरसीजनसेठीकपहलेभीशिकारियोंकीबंदूकेंइनबेसहाराजानवरोंपरतनीरहतीहैं।वनमाफियानेभीक्षेत्रकेजंगलोंकोनुकसानपहुंचायाहै।

वन्यक्षेत्रमेंकईवन्यप्राणीतेजीसेलुप्तहोरहेहैं।कुछवर्षपहलेबिनाकिसीभयकेक्षेत्रकेजंगलोंमेंदिखनेवालेसैल,मुर्गा,सांभरऔरबटेरअबकहींनजरनहींआतेहैं।सबसेज्यादानुकसानसरीसृपप्रजातिकेप्राणियोंकोआगसेहोताहै।इसकेअलावावनसंपदाभीतेजीसेघटरहीहै।10सालमें30हजारसेज्यादापेड़कम

वननिगमकेअनुसारचितपूर्णीकेजंगलोंमेंपिछले10वर्षमें30हजारसेज्यादापेड़कमहोचुकेहैं।इनमेंप्रमुखरूपसेचीड़केपेड़शामिलहैं।हालांकिवनविभागकेपासवन्यप्राणियोंकीसंख्याकाकोईरिकॉर्डनहींहै।हालांकियहतयहैकिवन्यप्राणियोंमेंभीपिछलेएकदशकमेंकमीआईहै।

-----------क्षेत्रकेजंगलोंकोआगसेबचानेकेलिएजनताकोजागरूककियाजाताहै।विभागकीतरफसेविभिन्नगांवोंमेंजागरूकताशिविरोंकाभीआयोजनकियाजाताहै।शिकारियोंऔरवनमाफियापरभीनजररखीजातीहै।वनसंपदाखुलेखजानेकीतरहहोतीहै।इसकीसुरक्षाहरकोईकरेतोवनसंपदाकेसाथवन्यप्राणियोंकीभीरक्षाकीजासकतीहै।

गिरधारीलाल,रेंजअधिकारी,वनविभाग