सुरेंद्रचौहान,पलवल

अनाजमंडीमेंपहलीअप्रैलसेशुरूहुईई-राष्ट्रीयकृषिमंडीप्रणालीअभीतकपूरीतरहपटरीपरनहींआईहै।मंडीमेंस्टाफवसुविधाओंकीकमीअभीतकइसप्रणालीकीराहमेंरोड़ाबनीहुईहै।हालांकिकिसानोंऔरआढ़तियोंकापंजीकरणकरकेखरीदडिजिटलमाध्यमसेशुरूहोगईहै,लेकिनबोलीअभीभीपुरानेतरीकेसेहीलगरहीहै।मार्केटकमेटीअधिकारीडिजिटलतरीकेसेबोलीलगानेकाप्रयासकररहेहैं,लेकिनआढ़तियोंकेपासकंप्यूटरवएंड्रायडमोबाइलनहोनेकेचलतेप्रयाससफलनहींहोपारहेहैं।कमेटीअधिकारीस्वयंअपनेमोबाइलसेउन्हेंबोलीलगानेकातरीकासीखारहेहैं।

ई-मंडीप्रणालीकेलिएअनाजमंडीस्थितकिसानभवनप्रयोगशालाभीबनाईगईथी,लेकिनउसमेंबारिशकापानीभरजाताथा।अबउसेदूसरेकमरेसेशिफ्टकरनेकाकार्यचलरहाहै।बारिशवखराबमौसमकेदौरानमंडीकेगेटोंपरकंप्यूटरलेकरबैठेकर्मचारियोंकोभीयहांवहांशरणलेनीपड़तीहै।नतोआढ़तीकंप्यूटरवआपरेटरआदिकीव्यवस्थानहींकरपाएहैं।

वैसेसरकारनेइसकेलिएइलेक्ट्रानिकनेशनलएग्रीकल्चरमार्केटकेनामसेएपभीबनायाहै,जिसेलोडकरकेउसीपरबोलीलगाईजासकतीहै,परंतुअधिसंख्यआढ़तियोंकेपासएंड्रायडफोनभीनहींहैं।कमेटीवयोजनासेजुड़ीटीमकेकर्मचारीआढ़तियोंऔरकिसानोंकोकाफीसमझानेकाप्रयासकररहेहैं,लेकिनअभीयहसिरेनहींचढ़पारहीहै।

प्रणालीलागूहोनेकेबादमंडीमें7398किसानों,46ट्रेडर्सव125कॉमनएजेंटपंजीकृतकिएजाचुकेहैं।प्रणालीकेतहतखरीदकीबातकरेंतोबाजरा944¨क्वटल,कपास3921¨क्वटल,मूंग6943¨क्वटलतथागेहूंसीजनमें439170¨क्वटलगेहूंकीखरीदहुईथी।बाजराफसलके14,मूंगके560तथागेहूंके720अनुबंधव्यापारियोंसंगहोचुकेहैं।ऑनलाइनबोलीकीबातकरेंतोकपासकी18ढेरियोंकीलगपाईहैं।

ई-बाजारप्रयोगशालाकोनएकमरेमेंशिफ्टकियाजारहाहै।मंडीगेटोंपरपंजीकरणकरनेवालोंकेलिएकेबिनलगानेकीभीतैयारीचलरहीहै।आढ़तीऔरकिसानोंकेपासअभीकंप्यूटरवएंड्रायडफोनकमहैं,उन्हेंअपनेफोनकेजरिएसिखाकरऑनलाइनबोलीलगानेकेलिएप्रयासकिएजारहेहैं।प्रणालीकोपूरीतरहसफलबनानेकेलिएहरसंभवकोशिशकीजारहीहै।

-इंद्रपाल,सचिवमार्केटकमेटीपलवल।

सुरेंद्रचौहान

By Duffy