प्रस,नईदिल्लीदेशकोसोलरपावरकेमामलेमेंताकतवरबनानेकीकोशिशोंको5राज्योंसेहीज्यादासपोर्टमिलरहाहै,जबकिबाकीराज्यइसमामलेमेंफिलहालधीमीचालसेचलरहेहैं।मानाजारहाहैकिइससेवर्ष2022तकदेशमेंसोलरपावरसेएकलाखमेगावॉटबिजलीबनानेकेलक्ष्यकोपूराकरनेमेंदिक्कतआसकतीहै।अभीजिन5राज्योंमेंसोलरपावरसेबिजलीबनानेकाकामप्रमुखतासेकियाजारहाहै,वहहैं-तमिलनाडु,गुजरात,आंध्रप्रदेश,राजस्थानऔरतेलंगाना।येअभीकुलक्षमताकी67प्रतिशतबिजलीसूरजकीरोशनीसेबनारहेहैं।जलवायुपरिवर्तनकीचुनौतियोंसेनिपटनेऔरपैरिसडीलकोअमलीजामापहनानेकेलिएदुनियाकेऔरदेशोंकेसाथहीभारतकोभीबिजलीकेपरंपरागतस्रोतोंपरनिर्भरताकमकरनीहोगी।इसमकसदकोहासिलकरनेकेलिएसरकारनेवर्ष2022तकसोलरपावरसेएकलाखमेगावॉटऔरहवासे60हजारमेगावॉटबिजलीबनानेकालक्ष्यतयकियाहै।इसकेसाथहीबायोमासऔरअन्यस्रोतोंसेभीबिजलीहासिलकरनेकेलिएनईयोजनाएंबनाईगईहैं।सूत्रोंकाकहनाहैकिअगरऔरराज्योंमेंसोलरपावरसेबिजलीबनानेकेकाममेंतेजीनहींआईतोइसलक्ष्यकोहासिलकरनामुश्किलहोगा।अभीदेशमेंसोलर,विंडऔरअन्यगैरपरंपरागतस्रोतोंसेकरीब47हजारमेगावॉटबिजलीबनाईजारहीहै।