जागरणसंवाददाता,फतेहपुर:सरकारीअस्पतालोंमेंजहांऑक्सीजनमौजूदतोहै,परगंभीरमरीजोंकेउपचारकाइंतजामनहींहै।कुछनिजीअस्पतालोंमेंबेहतरस्वास्थ्यसुविधाएंहैं,लेकिनवहांऑक्सीजनकासंकटहै।ऐसेमेंकारगरउपचारदेनेकेलिएबड़ीसमस्याखड़ीहोगई।कुछनर्सिगहोमकेपासऑक्सीजनहैपरवहउसकाडबलचार्जवसूलरहेहैं,लेकिनतीमारदारबेबसहोमनमानाशुल्कअदाकरनेकेलिएमजबूरहैं।

जिलेभरमेंअधिकृततौरपर56नर्सिंगहोमसंचालितहैं।इनमेंकईनर्सिंगहोमलग्जरीसुविधाओंवालेभीहैं।कोरोनाकेसाथअन्यतरहकीबीमारियांभीबराबरसेचलरहींहैं।निजीअस्पतालोंमेंऑक्सीजनखपतकेअनुसारप्रतिमाहमंगाईजातीहै,अबजबबाजारमेंइसकीकमीछागईहैतोउन्हेंऑक्सीजनकीसप्लाईनहींमिलरही।कईनर्सिंगहोमसंचालकोंकीमानेतोउनकेआर्डर20-20दिनसेलंबितहैं।कानपुरकीमुरारीगैसेजवकईअन्यफर्मेसप्लाईदेतीथीं,लेकिनइधरसप्लाईनहींमिलपारहीहै।इससेनिजीअस्पतालोंमेंभर्तीगंभीरबीमारोंसेपीड़ितमरीजोंकीसांसेफूलरहीहै।उधरकोरोनाकेगंभीरमरीजोंकेउपचारकाकोईसरकारीइंतजामनहींहै,जिसकेकारणउन्हेंभीबड़ेशहरोंकेअधिकृतनिजीकोविडअस्पतालोंकीशरणलेनीपड़रहीहै।

छोटाऑक्सीजनसिलिडर60रुपयेहुआमहंगा

जिलेमेंसर्वाधिकउपयोगऑक्सीजनकेछोटेसिलिडरोंकाहोताहै।निजीअस्पतालहोयाफिरहोमआइसोलेशनवालेमरीजइन्हींकाइस्तेमालकरतेहैं।यूंतोऑक्सीजनकानपुरसेआतीहै,लेकिनशहरकेबाकरगंजमेंएकपेटीडीलरहैजोकिकानपुरसेयहांसप्लाईदेताहै।अबतकछोटाऑक्सीजनसिलिडर180रुपयेमेंभरजाताथा,लेकिनअबयहभीलेटलतीफीकेसाथ240रुपयेमेंउपलब्धहोताहै।

आइसोलेशनवालेसंक्रमितोंकोनहींमिलरहासिलिडर

सरकारनेकोरोनाकेबिनालक्षणवालेमरीजोंकोघरमेंही10दिनकेउपचारकीसुविधादीहै।ऐसेलोगोंकोउपचारकेसंसाधनघरमेंजुटानेपड़तेहैं।जिसमेंऑक्सीजनसिलिडरकीअनिवार्यहै।जबनिजीक्षेत्रमेंऑक्सीजनकीकमीहैतोउन्हेंभीसिलिडरकेलिएजूझनापड़ताहै।

निजीअस्पतालोंमेंउपचारकाखर्च

खर्चकामद-----खर्च

डॉक्टरफीस--500से1000रुपयेतक

बेडचार्ज--250से1250रुपयेतक

ऑक्सीजन--1000से1200रुपयेतक

वेंटीलेटर--5000से10000रुपयेतक

फाइलखर्च--5000से1500रुपयेतक

नर्सिंगचार्ज--1000से2000रुपयेतक

(नोट-यहखर्च24घंटेकेलिएहैं।वर्तमानमेंहरमदमेंऑक्सीजनकिल्लतबताकर100सेदोसौरुपयेइजाफाकियागयाहै।)

By Doyle