गणेशपांडे,हल्द्वानी:विशेषज्ञमानतेहैंकिकोविडकालमेंभौतिककक्षाएंनहींचलनेसेबच्चोंकीसीखनेकीक्षमताकमहुईहै।कोरोनाकाडरअभीभीबनाहै,लेकिनबच्चोंकेभविष्यकीखातिरअभिभावकउन्हेंसावधानीवसतर्कताकेसाथस्कूलभेजनाचाहतेहैं।पहलेतीनदिनोंकीउपस्थितिनेइसेसाबितभीकियाहै।सरकारीप्राथमिकस्कूलोंमेंउपस्थिति50से65प्रतिशततकहै।

प्रदेशसरकारसेमान्यताप्राप्तनिजीस्कूलभलेअभी60प्रतिशतहीखुलेहैं,लेकिनउपस्थितियहांभी44फीसदतकआगईहै।दूसरीतरफसीबीएसईसेमान्यताप्राप्तशहरकेअधिकांशस्कूलोंनेसरकारकीगाइडलाइनकोधताबनाकरस्कूलबंदरखेहैं।हल्द्वानीब्लॉकमेंसीबीएसईसेमान्यताप्राप्तस्कूलोंकीसंख्या52है।अफसरोंकीलापरवाहीकानुकसानछात्र-छात्राओंकोहोरहाहै।

धीरे-धीरेबढ़रहीसंख्या

हल्द्वानीब्लॉकमेंप्रदेशसरकारसेमान्यताप्राप्तनिजीस्कूलोंकीसंख्या219है।21सितंबरको110,22को125तो23सितंबरको131स्कूलखुले।पहलेदिन50प्रतिशतबच्चेउपस्थितरहे।दोदिनमेंआंकड़ाबढ़कर44प्रतिशतकेकरीबपहुंचगया।जाहिरहैअभिभावकबच्चोंकोस्कूलभेजनाचाहतेहैं।दूसरीओरसरकारीप्राथमिकवउच्चप्राथमिकसभी172स्कूलखुलरहेहैं।

आंकड़ोंसेसमझिएबच्चोंवअभिभावकोंकीमंशा

विवरणपंजीकृतबच्चेउपस्थितिप्रतिशत

राजकीयप्राथमिकस्कूल11092560950.6

राजकीयउच्चप्राथमिक1925127066.0

मान्यताप्राप्तनिजीस्कूल261311146943.9

प्राइवेटस्कूलसंचालकोंकेअपनेतर्क

दसफीसदअभिभावकहीराजी:जोशी

हल्द्वानीपब्लिकस्कूलएसोसिएशनकेमहासचिवमणिपुष्पकजोशीकाकहनाहैकिउन्होंनेबच्चोंकोस्कूलभेजनेकेसंबंधमेंअभिभावकोंसेफीडबैकलिया।केवलआठसे10प्रतिशतअभिभावकबच्चोंकोभेजनेकेलिएहामीभररहेहैं।पहलेहीआर्थिकतंगीकेबीचइतनीकमउपस्थितिमेंस्कूलखोलनासंभवनहींहै।

एसओपीव्यावहारिकनहीं:भगत

सीबीएसईसेमान्यताप्राप्तसभीप्राथमिकस्कूलबंदहैं।हल्द्वानीपब्लिकस्कूलएसोसिएशनकेअध्यक्षकैलाशभगतनेबतायाकिमानकसंचालनप्रक्रिया(एसओपी)मेंकईखामीहैं।छोटेबच्चेबिनाट्रांसपोर्टस्कूलनहींआसकते।स्कूलोंकेलिएबिनाट्रांसपोर्टशुल्कपरिवहनउपलब्धकरानासंभवनहींहै।

मुख्यशिक्षाधिकारीनैनीतालकेकेगुप्तानेबतायाकिसीबीएसईकेस्कूलोंमेंछात्रसंख्याअधिकहै।ऐसेमेंशारीरिकदूरीकापालनकरातेहुएकक्षाएंसंचालितकरनासंभवनहींहोरहा।बच्चोंकीसुरक्षाकोदेखतेहुएस्कूलोंपरदबावभीनहींबनायाजासकता।

By Edwards