जागरणसंवाददाता,करनाल:शिक्षाव्यवस्थासुधारनेकेतमामप्रयासोंकेबावजूदजिलेके31स्कूलबंदहोनेकेकगारपरहैं।इनप्राथमिकस्कूलोंमें25सेकमबच्चेपढ़रहेहैंऔरशिक्षकोंकीसंख्यापर्याप्तनहींहै।ऑनलाइनआंकड़ोंकेआधारपरमुख्यालयने25सेकमबच्चोंवालेस्कूलोंकेनामजिलास्तरीयअधिकारियोंकोभेजरिपोर्टमांगीहै।सक्षमवनिष्ठाकार्यक्रमोंमेंकरोड़ोंरुपयेखर्चनेकेबावजूदसरकारीस्कूलोंमेंशिक्षाकास्तरनहींसुधररहाहै।नतीजतनअभिभावकोंकाझुकावनिजीस्कूलोंकीओरबढ़रहाहै।वहीं,सरकारकोसरकारीस्कूलचालूरखनेकेलिएमिड-डे-मील,छात्रवृत्तिजैसीयोजनाओंकासहारालेनापड़रहाहै।तीनसालसेस्ट्रेंथपरनहींसुधार

जिलेमें488प्राइमरीवमिडलस्कूलहैंऔरडोर-टू-डोरप्रचारकेबावजूदइनस्कूलोंमेंअभिभावकोंनेबच्चोंकोदाखिलानहींदिलाया।इससेपहलेनलवीखुर्द,रुकनपुरकेस्कूलमर्जहोचुकेहैंजबकिजीपीएसडाकवालारोड़ान,जीपीएसरायफार्म,जीपीएसनलवीखुर्दसहितजिलेके31स्कूलोंकीवेरीफिकेशनरिपोर्टकोउच्चाधिकारियोंकोभेजदीगईहै।विभागकामाननाहैकितीनसालसेबच्चोंकीस्ट्रेंथसुधरनहींपारहीहै,जबकिबजटपूराखर्चहोरहाहै।डाकवालारोड़ाननिवासीसुरजीतकुमारनेबतायाकिअगरसरकारीस्कूलोंपरनजरदौड़ाएंतोकुछस्कूलबिनामुखियाकेहीचलरहेहैं।खासकरग्रामीणक्षेत्रोंमेंआधेसेअधिकपदखालीहैं।शिक्षकोंसेविभागद्वाराअन्यकार्यलेनेपरबच्चोंकीशिक्षाप्रभावितहोतीहै।रट्टापद्धतिकेचलतेपिछड़रहेसरकारीस्कूल

अधिवक्तारामकुमारनेबतायाकिअधिकतरसरकारीस्कूलोंमेंरट्टापद्धतिपरबच्चोंकोपढ़ाईकरवाईजारहीहै,जिसकेचलतेसरकारीस्कूलोंमेंबच्चोंकेज्ञानमेंवृद्धिनहींहोपाती।प्रतिस्पर्धीययुगमेंमाता-पिताअपनेबच्चोंकोकेवलकिताबीपढ़ाईमेंटॉपकरनेकोप्रेरितनकरें।बालकयाबालिकाकिसक्षेत्रमेंअग्रणीहैउसेवैसीहीशिक्षाउपलब्धकरवाईजाए।बुनियादीशिक्षाकेतौरपरगणित,विज्ञान,सामाजिकविज्ञान,अंग्रेजी,हिदी,कम्प्यूटरज्ञान,शारीरिकव्यायाम,पर्यावरणजागरूकता,राष्ट्रीयसुरक्षासेसंबंधितविषयोंकोशामिलकियाजानाचाहिए।प्राथमिकस्तरपरखेल-खेलमेंबच्चोंकोसिखाएं,माध्यमिकस्तरपरबच्चोंमेंजागरूकतालानेकेप्रयासजरूरीहैं।प्रायोजिततरीकेसेबनायाजारहानिशाना

एंलीमेंटरीएसोसिएशनकेप्रदेशाध्यक्षदलबीरसिंहमलिकनेबतायाकिसरकारीस्कूलोंकोप्रायोजिततरीकेसेनिशानाबनायाजारहाहै।प्राइवेटस्कूलोंकीसमर्थकलॉबीकीतरफसेबहुतहीआक्रामकढंगसेइसबातकादुष्प्रचारकियागयाहैकिसरकारीस्कूलोंसेबेहतरनिजीस्कूलहोतेहैंऔरसरकारीस्कूलोंमेंसुधारकीकोईगुंजाइशनहींबचीहै।शिक्षाकाअधिकारकानूनलागूहुए9सालपूरेहोचुकेहैं,लेकिनआज90फीसदीसेअधिकस्कूलआरटीईकेमानकोंपरखरेनहींउतरतेहैं।इसकेबावजूदनिजीसंस्थानलगातारफले-फूलेहैं।स्कूलोंकोठीककरनेकीबजाएबंदयामर्जरकरनेकाप्रयासकियाजारहाहै।वेरीफिकेशनकिया,रिपोर्टमुख्यालयभेजी

जिलामौलिकशिक्षाअधिकारीराजपालचौधरीनेबतायाकिएकस्कूलमेंकमसेकमदोशिक्षकहोनेजरूरीहैं।जबकि25बच्चोंपरएकशिक्षकहोताहै।अगरकिसीस्कूलमें25सेकमबच्चेहैंऔरदोशिक्षकहैंऐसेस्कूलोंकीसंख्यापूरीकरनेवबच्चोंकाअनुपातबढ़ानेकेलिएविभागकीओरसेयुक्तिकरणकरनेकीयोजनाबनाईगईहै।आदेशानुसार25सेकमबच्चेवालेस्कूलोंकीवेरीफिकेशनकरविभागकेपासरिपोर्टभेजदीगईहै।फिलहालस्कूलोंकोबंदयामर्जकरनेकेलिएनोटिफिकेशननहींमिलाहै।

By Douglas