संवादसूत्र,चतरा:भाई-बहनकेअटूटप्रेमकापर्वरक्षा-बंधनकीतैयारियांपूरीतरहपरवानचढ़नेलगीहै।हालांकिकोरोनाकेकारणलोगबहुतउत्साहितनहींहै।राखीकीदुकानोंपरभीबहुतभीड़-भाड़नहींहै।राखीकीखरीदारीसतर्कताकेसाथकररहेहैं।राखीकापर्वतीनअगस्तकोहै।कोरोनाकासंक्रमणकालमेंइसवर्षपर्वऔरत्योहारफीका-फीकाहीबीतरहाहै।होलीकेबादजितनेभीपर्व-त्योहारहुएहैं,सबकेसबनीरससारहाहै।पिछलेचारमहीनोंसेबाजारमेंमंदीछाईहै।वाहनोंकापरिचालनठपहै।ढेरसारीदुकानेंबंदहै।यदिखुलेहुएभीहैं,तोउसमेंबंदिशेंबहुतहै।सड़कोंपरपुलिसकापहराहै।बगैरमास्ककाबाजारनिकलनहींसकतेहैं।स्थितिकोदेखतेहुएलोगसतर्कताकापूराख्यालकररहेहैं।इधरदूसरीओरसंक्रमणभीतेजीसेबढ़रहाहै।ऐसेमेंआवश्यकताकेअनुसारहीघरसेबाहरनिकलरहेहैं।फिरभीशहरसेलेकरगांवतककेबाजारोंमेंराखीकीदुकानेंसजीहुईहै।यहसचहैकिअन्यवर्षोंकीअपेक्षाराखीकाखेपकमआयाहै।चूंकिदोदिनोंकेबादपर्वहै,ऐसेदुकानोंपरखरीदारजुटनेलगेहैं।

By Edwards