बागेश्वर:पपोलीकेहरिनागमंदिरमेंश्रीमद्भागवतकथाजारीहै।तमामगांवोंसेश्रद्धालुकथाकारसपानकरनेकोउमड़रहेहैं।व्यासस्वरूपरमेशपांडेभक्तोंकोभागवतकथासुनाकरधर्मऔरसत्यकीराहकाअनुसरणकरनेकोप्रेरितकररहेहैं।भागवतकथाकाआयोजनग्रामीणोंनेसामूहिकरूपसेकियाहै।व्यासपांडेनेव्यासमुनिकीउत्पत्ति,कर्मबंधन,पापऔरपुण्यआदिविषयोंकेबारेमेंभक्तोंकोबताया।उन्होंनेकहाकिसंसारधर्मऔरसत्यकीधुरीपरटिकाहुआहै।पापऔरअन्यायकुछसमयकेलिएबलवानभलेहीलगताहोलेकिनअंतमेंजीतसत्यकीहोतीहै।उन्होंनेकहाकिहमारेधर्मग्रंथअच्छाईकीराहपरचलनेकीप्रेरणादेतेहैं।उनकाअनुसरणकरनेसेमनुष्यकोजीनेकीसहीराहमिलतीहै।उन्होंनेभक्तोंसेदीनदुखियोंकीसहायताकरने,गरीबोंकोदानदेनेऔरप्रभुकीभक्तिमेंजीवनसमर्पितकरनेकोकहा।कथाकेसाथसंगीतमंडलीकेकलाकारभीभक्तोंकोभजनसुनाकरभक्तिकीमहिमाबताई।कथासुननेकोरैखोलागांव,बाफिलागांव,दियालीकुरौली,पपोलीसहिततमामगांवोंकीमहिलाएंउमड़ी।कथाकासमापनपांचफरवरीकोविशालभंडारेकेसाथहोगा।इसमौकेपरगो¨वदपपोला,रतन¨सह,पुष्कर¨सह,मादो¨सह,भगवत¨सह,डुंगर¨सहआदिनेसहयोगदिया।