गोपालगंज:निश्शुल्कइलाज,मुफ्तमेंदवाएं,शहरसेलेकरकस्बोंऔरगांवतकमेंबनेस्वास्थ्यकेंद्र,यहगारंटीदेतेहैंकिजिलेकेनिवासियोंकोस्वास्थ्यकीसुविधाएंमिलरहीहैं।पर,सरकारीअस्पतालोंमें112चिकित्सकोंकेपदरिक्तरहनेसेधरातलपरहकीकतकुछऔरनजरआतीहै।सरकारीअस्पतालोंमेंपहुंचतेहीमरीजोंकोइसबातकाअहसासभीहोजाताहैकियहांसबकुछहै,परबेहतरइलाजकीसुविधानहींहैं।सदरअस्पतालसेलेकरस्वास्थ्यउपकेंद्रोंमेंचिकित्सककीकमीमरीजोंपरभारीपड़रहीहै।वैसेशहरीक्षेत्रकेसरकारीअस्पतालोंइलाजकीव्यवस्थाकुछठीकहै,परग्रामीणइलाकोंकेस्वास्थ्यकेंद्रोंपरमरहम-पट्टीतककीसुविधा24घंटेआमलोगोंकोमुहैयानहींहोपाती।जिलेमेंअतिरिक्तस्वास्थ्यकेंद्रतोपूरीतरहसेनकारासाबितहोरहेहैं।

बातसदरअस्पतालसेशुरूकरेंतोसातसालकीलंबीकवायदकेबादयहांआइसीयूसेवाचालूकीगई।पर,अज्ञातमरीजोंकोछोड़करइसमेंमरीजोंकोभर्तीकरनेसेबेहतरचिकित्सकउनकोरेफरकरनासमझतेहैं।वैसेजिलेकीकरीब26लाखकीआबादीकेलिएसदरवअनुमंडलीयअस्पतालकेअलावाचाररेफरलअस्पताल,12प्राथमिकस्वास्थ्यकेन्द्र,23अतिरिक्तस्वास्थ्यकेन्द्रतथा127उपस्वास्थ्यकेंद्रहैं।बीतेकुछसालोंमेंजिलावअनुमंडलस्तरीयअस्पतालोंकीदशाभीसुधरीहै।कुछहदतकप्रखंडस्तरीयप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रोंकीस्थितिभीबेहतरहुईहै।लेकिनसुधारकीइसप्रक्रियाकेबीचचिकित्सकोंकीभारीकमीबेहतरइलाजमेंबाधकबनीहुईहै।ग्रामीणअस्पतालोंमेंनहींदिखतेचिकित्सक

गोपालगंज:ग्रामीणइलाकोंकेसरकारीस्वास्थ्यकेंद्रोंमेंचिकित्सककीकमीसेमरीजोंकोकाफीपरेशानीउठानीपड़तीहै।सुदूरग्रामीणक्षेत्रमेंस्थितअतिरिक्तस्वास्थ्यकेंद्रोंपरतोसप्ताहमेंएकयादोदिनहीडॉक्टरपहुंचतेहैं।वहभीमहजचंदघंटोंकेलिए।ऐसेमेंयहांआनेवालेमरीजबैरंगवापसलौटनेकोविवशहोतेहैं।सरकारीअस्पतालोंमेंचिकित्सकोंकीसंख्या

::नियमितचिकित्सक::

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

संविदापरबहालचिकित्सक

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

आयूषचिकित्सक(संविदा)

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

नियमितग्रेडएनर्सकीसंख्या

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

एएनएमकीसंख्यानियमित

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

स्वीकृतपदकार्यरतखाली

स्वास्थ्यसेवाओंकीसच्चाई

*सदरअस्पतालकाआइसीयूबनादिखावा।

*इमरजेंसीवार्डतकमेंदिखतीहैगंदगी।

*कईविभागोंमेंनहींहैंचिकित्सक।

*हरदिननहींखुलतेअतिरिक्तस्वास्थ्यकेन्द्र।

*उपस्वास्थकेंद्रोंपरकर्मियोंकाअभाव।

*प्रखंडस्तरीयअस्पतालोंमेंमहिलाचिकित्सकोंकीकमी।

मरीजोंकीसमस्या

*नहींमिलतीसरकारद्वारानिर्धारितसभीदवाएं।

*अस्पतालमेंकभीबेडतोकभीचादरगायब।

*मानककेअनुसारनहींमिलतानाश्तावभोजन।

*आइसीयूकीबदहालीसेदूसरेअस्पतालदौड़नेकीविवशता।

*गंभीरबीमारियोंकेइलाजकीनहींहैव्यवस्था।

*ग्रामीणअस्पतालकीबदहालीसेमुख्यालयआनेकीमजबूरी।

सदरअस्पतालकेआइसीयूकीदशासुधारीजारहीहै।सदरअस्पतालसहितसभीसरकारीअस्पतालोंमेंसुविधाएंभीबढ़ीहै।हां,चिकित्सकोंकीकमकेकारणकुछसमस्याएंहोतीहैं।सरकारकेस्तरपरचिकित्सकोंकीकमीदूरकरनेकाप्रयासकियाजारहाहै।

डॉ.एकेचौधरी,सीएस

By Duffy