अरवल।सर्दीकामौसमआरंभहोतेहीबाजारोंमेंतिलकुटकीसोंधीमहकनेलगाहै।हांलाकिमकरसक्रांतिमेंअभीकाफीसमयबाकीहै।फिरभीतिलकुटकीदुकानेंबाजारोंमेंसजनेलगीहै।इतनाहीनहींतिलकुटनिर्माणकार्यभीजगह-जगहपरकियाजारहाहै।इसेलेकरगयासेविशेषज्ञकारीगरभीबुलाएगएहैं।जोपूरेसीजनयहांरहकरतिलकुटबनानेकाकार्यकरेंगे।स्थानीयसब्जीबाजार,महावीरचौक,वासिलपुरथानाकेपाससहितकईस्थानोंपरतिलकुटकीदुकानेंलगगईहै।इनदुकानोंपरग्राहकोंकीभीड़भीदेखीजारहीहै।स्थानीयदुकानदारप्रदीपकुमारनेबतायाकिपांचसालोंसेवेंतिलकुटकाकारोबारकररहेहैं।पहलेतोगयासेबनाबनायातिलकुटमंगवाकरयहांबेचतेथे।लेकिनइधरकुछवर्षोंसेखुदहीतिलकुटनिर्माणकरवारहेहैं।इससेबचतभीअच्छीखासीहोजातीहै।उन्होंनेबतायाकिगयासेबुलाएगएकुशलकारीगरतिलकुटनिर्माणमेंजुटेहुएहैं।गुड़औरचीनीकेसाथ-साथखोवाकातिलकुटभीबनायाजारहाहै।वर्तमानसमयमें160रूपएसेलेकर280रुपयेकिलोतककेतिलकुटबाजारमेंउपलब्धहै।

By Field