यशपालवर्मा,करनाल

किसीभीमुकामकोहासिलकरनेकेलिएभरपूरमेहनतकरनीपड़तीहै।ऐसेमेंहमसिस्टमकोगलतनहींकहसकतेहैं।यहकहनाहैनेशनलबॉक्सिगमेंब्रांजमेडलविजेतामंदीपकुमारका।चैंपियनबॉक्सरबिजेंद्रकीतरहबननेकेलिएमंदीपकोअपनेअभ्यासमेंआनेवालेखर्चकोपूराकरनेकेलिएटायरपंक्चरलगानेपड़रहेहैं।बेश्कसरकारकीतरफसेखिलाड़ियोंकोअनेकोंसुविधाओंकाबखानकियाजाताहै,लेकिनपांचसालसेयुवाबॉक्सरअपनेदमपरअभ्यासमेंजुटाहै।मंदीपकासपनाहैकिएकदिनवहबॉक्सरबिजेंद्रकीतरहअपनेप्रदेशकानामरोशनकरेगा।आर्थिकतौरपरकमजोरहोनेकेकारणआमदनीकेलिएसुबह-शामखिलाड़ियोंकोट्रेनिगभीदेरहेहैं।रुरलनेशनलमुकाबलेमेंजीताब्रांचमेडल23वर्षीयमंदीपकुमारनेबतायाकिवर्ष-2014मेंजबदोस्तकेसाथकर्णस्टेडियममेंगयातोकोचसुरेंद्रचौहानसेमुलाकातहुई।उनकेसानिध्यमेंबॉक्सिगकीशुरुआतकी।जिलाऔरराज्यस्तरीयखेलोंमेंहिस्सालेनेकेबादवर्ष-2017मेंजयपुरमेंआयोजितरुरलनेशनलमुकाबलोंमेंब्रांचमेडलहासिलकिया।आर्थिकहालातकमजोरहोनेकेकारणशिक्षाप्राइवेटकरनीपड़ीऔरअभ्यासकोजारीरखनेकेलिएखुलेमैदानमेंखिलाड़ियोंकोट्रेनिगदेनीशुरूकरदी।सुबह-शाम14खिलाड़ियोंकोदेरहाप्रशिक्षण

मंदीपकामाननाहैकिसरकारीनौकरीकेलिएनिरंतरप्रतिस्पर्धापरीक्षाओंमेंहिस्सालेतारहताहूंलेकिनमेरामुख्यलक्ष्यबॉक्सरबिजेंद्रकीतरहप्रोफेशनलबॉक्सरबननाहै।इसकेलिएटायरपंक्चरकेअलावामजदूरीभीकरनेसेपीछेनहींहटूंगा।आर्थिकतंगीकेचलतेअपनीडाइटवसंशाधनोंकेलिएमंदीपसुबह-शाम14नएबॉक्सरकोट्रेनिगदेतेहैं।वहींजिलाखेलअधिकारीदिलबागसिंहनेबतायाकिऐसेखिलाड़ियोंकेलिएविभागकीतरफसेविशेषसहूलियतदीजातीहै।बॉक्सिगकोचकोइससंबंधमेंहिदायतदीजाएगी।खिलाड़ीकोअभ्यासमेंमददकेलिएविभागहमेशातैयारहै।

खेलकेसाथ-साथपढ़ाईमेंअव्वलमंदीपकापेतृकगांवगुल्लरपुर(निसिग)हैऔरमंदीपजबआठसालकेथेतोपरिवारकरनालकेसेक्टर-4मेंशिफ्टहोगयाथा।पिताहरिचंदनेखादीविलेजइंडस्ट्रीकमिशनमेंफील्डअफिसररहेजोकिइससमयसेवानिवृत्तहैंजबकिमातासरितागृहणीहैं।घरमेंचारभाई-बहनोंमेंसबसेछोटाहोनेकेबावजूदआत्मनिर्भरतामंदीपमेंकूट-कूटकरभरीहै।निजीकालेजसेबीएससीस्पो‌र्ट्ससाइंसकेफाइनलईयरकेछात्रमंदीपनेसेक्टर-6स्थितटैगोरबालनिकेतनसेदसवींऔर12वींसाइसविषयकेसाथप्रथमश्रेणीमेंपासकी।मंदीपकामाननाहैकिकामकोईभीछोटानहींहोताहै।इंसानकोमेहनतकरतेरहनाचाहिए।

By Duffy