नयीदिल्ली,दोदिसंबर(भाषा)अपनेघरोंसेदूर,सर्दियोंसेबेपरवाहदिल्लीकेसिंघूबॉर्डरपरडटेकिसानोंकाकहनाहैकिवेलंबेसंघर्षकेलिएतैयारहैंऔरजबतकउनकीमांगेंमाननहींलीजातींतबतकवेवहांसेहटेंगेनहीं।पंजाबऔरहरियाणासेपहुंचेयेकिसानपेट्रोलपंपोंपरस्नानकेसाथदिनकीशुरुआतकरतेहैं।वेवहींअपनेकपड़ेभीधोतेहैं।बदलेमेंवेपेट्रोलपंपोंपरसाफ-सफाईकरदेतेहैं।फिरवेसड़कोंकेकिनारेखानापकातेहैं।प्रदर्शनपरपहुंचनेवालेकिसीभीव्यक्तिकोपूराखानादियाजाताहैजिसमेंदाल,चावल,पराठाऔरखीरआदिजैसेव्यंजनशामिलहोतेहैं।चायकीसततआपूर्तिप्रदर्शनकारियोंकोठंडकामुकाबलाकरनेमेंमददकरतीहै।शामकेवक्तवेअपनाजोशबनायेरखनेकेलिएसमूहमेंजमाहोते,गानेगातेहैंऔरड्रमबजातेहैं।प्रदर्शनकारीसोनूकुमारनेकहा,‘‘हमयहांमंगलवारकोआयेऔरहमतबतकयहांरहेंगेजबतकहमारीमांगेंकेंद्रसरकारस्वीकारनहीकरलेती।महीनोंतकयहांटिकेरहनेकेलिएहमारेपासपर्याप्तराशनहै।’’उसनेकहा,‘‘हरआदमीअपनाखानाखुदहीबनारहाहैऔरदूसरोंकोबांटरहाहै।हमपंजाबीहैंऔरहमेंपताहैकिमुश्किलघड़ीमेंकैसेखुशरहनाहै।हमेंस्थानीयलोगोंसेभीमददमिलरहीहै।वेहमेंपानीऔरअन्यजरूरीचीजेंदेरहेहैं।’’प्रदर्शनकारीहरसुबहलंगरकीतैयारीशुरूकरतेहैंऔरदिनभरखानावितरितकियाजाताहै।एकअन्यप्रदर्शनकारीनेकहा,‘‘दाल,परांठे,चावलऔरखीरसमेतअलगअलगव्यंजनबनायेजारहेहैं।लोगोंकोचायदीजारहीहै।’’सिंघूबोर्डरपरखुलेआसमानयाट्रैक्टरोंकेनीचेसोरहेइनप्रदर्शनकारियोंकेलिएमेडिकलकैंपभीलगायेगयेहैं।डॉ.विमलशर्मानेकहा,‘‘चूंकिवेबहुतचलकरआरहेहैं,इसलिएउनकेपैरोंमेंघावहै।कईकोगैस्ट्रिकहै।जोड़ोंमेंदर्दतोआमहै।ट्रैक्टरोंकेबाहरसोरहेलोगज्वरयाठंडकीशिकायतकररहेहैं।’’चंडीगढ़केडॉ.सुखविंदरसिंहबरारनेकहा,‘‘प्रदर्शनकारियोंकीअलगअलगपरेशानियांहैं।ज्यादातरकोअधिकउम्रकेचलतेजोड़ोंमेंदर्दहै।’’बुधवारकोदिल्लीमेंप्रदर्शनकारियोंकीसंख्याऔरबढ़गयी।हजारोंपदर्शनकारियोंद्वारासातवेंदिनभीराष्ट्रीयराजधानीकीसीमाएंअवरूद्धकरनेकेबादपुलिसनेसुरक्षाबढ़ादीहै।यात्रियोंकोबहुतमुश्किलेंहोरहीहैं।

By Farmer