जासं,बागेश्वर:किसानोंकीआयदोगुनीकरनेकेलिएउद्यानविभागजिलेमेंहरसंभवप्रयासकररहाहै।इसबीचकिसानप्याजकेपौधलगारहेहैं।उद्यानविभागकीनर्सरीमेंपौधवितरणचलरहाहै।टोकनसिस्टमकेजरिएकिसानोंकोप्याजकीपौधमुहैयाकराईजारहीहै।बाजारमेंप्याजकीपौध20रुपयेढेरमिलनेपरगरीबकिसानकीपहुंचसेबाहरहै।जबकिउद्यानविभागउसेदसरुपयेकीगड्डीदेरहाहै।प्याजकीपौधयहांपहलेरानीखेतसेआतीथी।जिसकीकाफीडिमांडथी।किसानरानीखेतीप्याजकेपौधोंसेबेहतरफसलउत्पादनकरतेथे।लेकिनअबरानीखेतीप्याजकीपौधस्थानीयस्तरपरभीकिसानतैयारकरनेलगेहैंवहइसप्याजकीपौधकोलेकरबाजारआतेहैंऔरतत्कालउनकीपौधबिकजातीहै।वर्तमानमें20रुपएगड्डीतकप्याजकीपौधहै।एकगड्डीमेंकरीब20पौधेहोतेहैं।लेकिनकिसानोंकोराहतदेनेकेलिएउद्यानविभागनेस्थानीयनर्सरीमेंउन्नतप्रजातिकीप्याजकीपौधतैयारकीहै।किसानोंको10रुपयेकीगड्डीमिलरहीहै।जिससेवहांकिसानोंकीभीड़लगीहुईहै।एकदिनमेंचारहजारसेअधिकरुपएकीपौधउद्यानविभागबेचरहाहै।डिमांडऔरटोकनसिस्टमसेकिसानोंकोप्याजकीपौधमुहैयाकराईजारहीहै।इधर,जिलाउद्यानअधिकारीआरकेसिंहनेबतायाकिप्याजकीपौधकमपड़नेलगीहै।किसानोंकोराहतदेनेकेलिएनर्सरीमेंपौधतैयारकीगईहै।

By Farmer