धनंजयप्रतापसिंह,भोपाल। प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीकेनेतृत्वमेंअबहमराममंदिरसेरामराज्यकीओरबढ़ेंगे।मैंराममंदिरकीहीतरहरामराज्यकेलिएभीजीने-मरनेकेलिएतैयाररहूंगी।यहबातपूर्वमुख्यमंत्रीसुश्रीउमाभारतीने'नईदुनिया'केसाथविशेषबातचीतमेंकही।भारतीनेकहाकिहमचुनावजीतेयाहारे,लेकिनभगवानरामकेचरणकभीनहींछोड़ेक्योंकिभगवानरामहमारेलिएराजनीतिकामुद्दानहींबल्किआस्थाकेकेंद्रहैं।अबहमारीलड़ाईराम-राज्यकेलिएहै।शायदउसीकेलिएभारतकीराजनीतिमेंनरेंद्रमोदीकाअवतरणहुआहै।

विवादितढांचाढहानेमेंअभियुक्तहूं:उमाभारती

गौरतलबहैकिउमाभारतीकीभूमिकारामजन्मभूमिमंदिरआंदोलनमेंमहत्वपूर्णरहीहै।दिसंबर1992मेंजबविवादितढांचाढहायागयाथा,वेइसकेप्रमुखअभियुक्तोंमेंसेएकहैं।

पेशहैउनसेबातचीतकेमहत्वपूर्णअंश-

सवाल-विवादास्पदढांचागिराएजानेकाआपकोकभीअफसोसहुआ?

जवाब-मुझेइसअभियानमेंभागीदारीकाकोईअफसोसनहींहै।मुझेतोहरसजामंजूरथी।सीबीआइकीअदालतमंदिरहै।कानूनहमारावेदहैऔरउसअदालतकीकुर्सीपरबैठेजजभगवानहैं।उनकेमुंहसेहमारेबारेमेंजोभीवाणीनिकलेगी,उसेमैंशिरोधार्यकरूंगी।

सवाल-मुहूर्तकोलेकरभीसवालखड़ेकिएजारहेहैं।क्यायहसहीहै?

जवाब-मुहूर्तसहीहैयानहीं,हमवहांहोंगेयानहीं।कोरोनाकेसमयमेंहीक्योंभूमिपूजनहोरहाहै।यहबातेंसिर्फइसलिएउठरहीहैक्योंकिभारतकीराजनीतिअबदूसरेबिंदुपरआरहीहैऔरवहहैरामराज्य।जहांअमीरऔरगरीबकेबीचअंतरनहींहोगा।सबकोदवाई,शिक्षा,रोटी,रोजगारऔरसम्मानकेसाथजीनेकाअधिकारमिलेगा।रवींद्रनाथटैगोरनेकहाथाकिमेरादेशऐसाहोजहांहृदयमेंसंतोषऔरमाथागर्वसेऊंचाहो।

सवाल-कांग्रेसहमेशाराममंदिरनिर्माणकेखिलाफरहीहै।अबउसकेनेतास्वागतकररहेहैं।ऐसाबदलावक्योंआया?

जवाब-अबजबकांग्रेसनष्टहोचुकीहै।समाजवादीपार्टीऔरवामपंथीविचारधाराकेनकलीलोगएक-एकवोटकेलिएतरसरहेहैं।यहतोलगेहैंकिइसकार्य(राममंदिरकाभूमिपूजन)कोशांतिसेशुरूनहींहोनेदेनाहै।किंतुइसदेशकेलोगउनकेमंसूबोंकोअसफलकरदेंगे।पांचअगस्तसेराममंदिरकानिर्माणकार्यप्रारंभहोगा।पांचशताब्दियोंतकयहअभियानचला।इसकेअंतिमचरणमेंअशोकसिंघलऔरलालकृष्णआडवाणीकीअगुआईमेंइसअभियानमेंभागीदारीकरकेमेरेजैसेकईलोगधन्यहोगए।

'1969मेंमैंआठसालकीथीतबअयोध्याजीकेसंतोंनेमुझेप्रवचनकेलिएबुलायाथा,मैंअपनीमांऔरबड़ेभाईकेसाथवहांगई।महंतरामदासपरमहंसमुझेरामजन्मभूमिदिखानेलेगए।वहरामजन्मभूमिकाप्रकरणभीकोर्टमेंलड़रहेथे।मैंनेवहांतालादेखाऔररामललाकेदूरसेदर्शनकिए।मेरेबालमनमेंजोसवालआए,मैंनेमहंतजीसेपूछे।उन्होंनेजोजानकारीदी,उससेलगा-यहतोहिंदूसमाजकेसाथबेहदअन्यायहै'-उमाभारती।

By Finch