नईदिल्ली/गाजियाबाद,जेएनएन।विकसितदेशोंकीसूचीमेंअमेरिकानंबरवनहै।मानाजाताहैकिवहांकेलोगकाफीसंपन्नऔरखुशहैं।बावजूदअमेरिकामेंसबसेज्यादालोगएकखतरनाकबीमारीकाशिकारहोरहेहैं।अमेरिकाकेबाददूसरेनंबरपरब्रिटेनकेलोगइसबीमारीसेसबसेज्यादाग्रसितहोरहेहैं।इसबीमारीसेग्रसितहोनेवालेलोगोंकीसर्वाधिकसंख्याभारतमेंहै।

इसबीमारीकीवजहविश्वमेंतेजीसेबढ़तीएकऐसीलतहै,जिसनेलगभगहरदेशकोपरेशानकररखाहै।अमेरिकाऔरब्रिटेनकेबादभारतमेंतेजीसेपांवपसाररहीयेखतरनाकबीमारी,भविष्यकेलिएबड़ाखतराहै।लिहाजाडॉक्टरोंनेलोगोंकोइसलतसेसावधानकियाहै।

दुनियाभरकोपरेशानकरनेवालीयेलतहैअश्लीलवीडियोदेखनेकी।इसकीवजहसेलोगोंकेमानसिकस्वास्थ्यपरबुराप्रभावपड़रहाहै।इससेमानसिकरोगियोंकीसंख्यामेंतेजीसेइजाफाहोरहाहै।इसमेंअमेरिकानंबरवनऔरब्रिटेननंबरदोपरहै।इसकेबादतीसरेनंबरपरभारतहै।

अश्लीलसाइटदेखनेसंबंधीखुलासेचौंकानेवालेहैं।अमेरिकाकीनामीमनोविशेषज्ञएंजेलाबतातीहैंकिबहुतज्यादाअश्लीलसाइटववीडियोदेखनेवालेकईसारीस्वास्थ्यऔरमानसिकबीमारियोंकेशिकारहोसकतेहैं।पूरीदुनियामेंअश्लीलवीडियोदेखनेवालेयुवाओंकीसंख्याबढ़तीजारहीहैऔरऐसायुवाओंकीआदतमेंशुमारहोताजारहाहै।

भारतीयमनोवैज्ञानिकडॉ.केएनजोशीकाकहनाहैकिदुनियाभरकेयुवाओंकेसामनेयेसबसेबड़ाखतराबनकरउभराहै।भारतकाइससूचीमेंतीसरेपायदानपरपहुंचना,भविष्यकेबड़ेखतरेकासंकेतहै।इसखतरेकाअनुमानइसीसेलगायाजासकताहैकिदुनियाभरमेंयुवाओंकोअश्लीलताकानशाहोताजारहाहै।इससेभविष्यमेंकईतरहकीपरेशानियांपैदाहोसकतीहैं।

मनोवैज्ञानिकडॉ.केआरबंसलकेअनुसारभारतजैसेदेशअश्लीलफोटो,वीडियोयासाइटदेखनेकेमामलेमेंबहुतआगेहैं।खबरोंपरयकीनकरेंतोदुनियाभरमेंमशहूरएकअश्लीलवेबसाइटनेपिछलेसालकाएकआंकड़ासार्वजनिककियाथा।जिसकेअनुसारदुनियामेंऔसतनहरेकव्यक्तिनेपोर्नसाइटपर12वीडियोदेखीथी।दुनियाभरकेलोगोंके4अरब,39करोड़,24लाख,86हज़ार580घंटेअश्लीलसाइटयावीडियोदेखनेमेंख़र्चहुएथे।

महिलाओंकोभीलगरहीयेगलतलत

ऐसानहीहैंकीकेवलमर्दोंपरहीअश्लीलवेबसाइटदेखनेकाअसरहोरहाहै।महिलाओंकोभीइसकीआदतहोगईहै।आश्चर्यनहींहैकिइसतरहकीआदतोंकेकारणयुवाओंमेंतरह-तरहकीसमस्यापैदाहोरहीहैं।एकतरफतोविवाहितयुवक-युवतियांशारीरिकसंबंधबनानेसेबचरहेहैं।दूसरीओरसमलैंगिकताजैसेमामलोंमेंभीतेजीसेइजाफाहुआहै।

भारतमेंबढ़रहीहैंमहिलाउत्पीड़नकीघटनाएं

अश्लीलसाइटोंसेबढ़रहेमानसिकरोगकाहीअसरहैकिभारतमेंतेजीसेमहिलाउत्पीड़नकीघटनाएंबढ़रहीहैं।इसमेंमहिलासंगघरेलूहिंसा,दुष्कर्म,अपहरण,छेड़छाड़औरअसफहलहोनेपरहत्याजैसीघटनाएंसबसेज्यादाहैं।पिछलेकुछसालोंमेंइनकाआंकड़ालगातारबढ़ाहै।मनोवैज्ञानिकोंकेअनुसारअनैतिकइच्छाओंकेकाबूनकरपानेवसमाजमेंअश्लीलसाइट्सकोदेखनेकीबढ़तीकुप्रवृत्तिकेचलतेइनकीसंख्याबढ़रहीहै।जबतकसख्तकानून,समय-समयपरकाउंसिलिंगनहींहोतीरहेगी।इन्हेंबढ़नेसेरोकनामुश्किलहै।नाबालिगोंकेमामलेमेंपॉक्सोएक्टमेंकरीब1200केसअकेलेगाजियाबादजिलेमेंहीविचाराधीनहैं।

ज्यादातरमानसिकरोगीकरतेहैंऐसीवारदातविशेषज्ञोंकेमुताबिकइसतरहकीघटनाओंकेअपराधियोंमेंज्यादातरमानसिकरोगीहोतेहैं।मनोवैज्ञानिकडॉ.संजीवत्यागीनेबतायाकिहरइंसानकीइच्छाएंदोतरहकीहोतीहैं।एकनैतिकऔरदूसरीअनैतिक।नैतिकइच्छाएंतोपूरीहोजातीहैं,लेकिनअनैतिकइच्छाएंसमाजिकबंधनोंकेचलतेपूरीनहींहोपातीहैं।यौनकुंठाभीएकऐसीहीइच्छाहै।एकस्वस्थमनुष्यउनइच्छाओंकोदबालेताहै,मगरकुछनहींदबापाते।

तैयारहोरहनेऩएक्रिमिनलमनोचिकित्सकडॉ.हेमिकाअग्रवालनेबतायाकिसोशलमीडियापरअश्लीलसाइट्सवअश्लीलचलचित्रोंनेलोगोंकीमानसिकताकोबदलडालाहै।दरअसल,जोलोगऐसीइच्छाओंकोदबाभीलेतेहैं,वेभीयेसबदेखकरक्राइमकरनेकोतैयारहोरहेहैं।उन्होंनेबतायाकिसबतोनहीं,लेकिनज्यादातरइसतरहकेअपराधीमानसिकरोगीहोतेहैं।

स्किजोफ्रेनियायामेनियाहोनेपरअचानकहोताहैबदलाव

डॉ.हेमिकाअग्रवालनेबतायाकिस्किजोफ्रेनियायामेनियाहोनेपररोगीमेंअचानकबदलावआताहै।ऐसेरोगीवैसेतोसामान्यहोतेहैं।उनकापिछलाइतिहासभीसहीहोताहै।मगरअचानकसेउनमेंइसतरहकीभावनाएंजागतीहैं,जोउन्हेंकिसीभीहदतकलेजानेकोप्रोत्साहितकरतीहैं।इसतरहकीघटनाएंपूरेसमाजकोहिलाकररखदेतीहैं।

दिमागकेविकासपरभीपड़ताहैप्रभाव

न्यूगरोसाइंटिस्टीकीमानेंतोबहुतज्यादाअश्लीलसाइटदेखनेसेदिमागकेविकासपरभीप्रभावपड़ताहै।इससेमनोविकारजैसीसमस्याभीहोसकतीहै।अगरआपऐसेव्यवक्तिकेसाथरिश्तेतमेंहोंतोआपकोअंतरंगताकेलिएनुकसानकासामनाभीकरनापड़सकताहै।

जागरुकतावबचावकेलिएचलायाजाएगाअभियानगाजियाबादकेवरिष्ठपुलिसअधीक्षकवैभवकृष्णभीमानतेहैंकिमहिलाओंकेप्रतिबढ़ताअपराधएकगंभीरविषयहै।उनकेअनुसारइसतरहकेमामलोंमेंपुलिसअबबहुतजागरूकहोचुकीहै।बच्चियोंऔरमहिलाओंसंगहोनेवालेसभीअपराधोंमेंतत्कालरिपोर्टदर्जकर,सख्तकार्रवाईकीजातीहै।पुलिसनेकईऐसीवारदातोंकाभीपर्दाफाशकियाहै।इसकेसाथहीलोगोंकोमहिलाअपराधोंकेप्रतिवक्त-वक्तअभियानचलाकरजागरूकभीकियाजाताहै।

यहभीपढ़ेंः मैट्रिमोनियलसाइटसेजीवनसाथीढूंढ़रहेयुवक-युवतियांजरूरपढ़ेंयेखबर...

यहभीपढ़ेंः दिल्लीमें30हजारसेअधिकलोगोंकीजानखतरेमें,जानिये-इसकीसबसेबड़ीवजह