देहरादून,अशोककेडियाल।सूबेकीमहिलाएंउद्यमिताकेक्षेत्रमेंअपने'हुनर'केदमपरबेरोजगारोंकाकरियरसंवाररहीहैं।वर्तमानमेंप्रदेशमें201महिलाओंनेअपनेउद्योगस्थापितकरनकेवलअपनीआयबढ़ारहीहैं,बल्किदर्जनोंबेरोजगारयुवाओंकोअपनेयहांनौकरीदेकरउनकोअपनाकरियरबनानेकामौकाभीदियाहै।इनमहिलाओंकीकर्मठतासेएकअगस्त2020तक1130बेरोजगारोंकोघरकेसमीपरोजगारमिलाहैं।इनउद्यमीमहिलाओंकोउद्योगविभागकीओरसेविशेषप्रोत्साहनयोजनाकालाभभीदियागया।

खुदमेंप्रतिभावानयहमहिलाएंअन्यकेलिएरोलमॉडलहैं।सरकारीनौकरीऔरबेहतरक्षेत्रमेंकरियरबनानेकामोहछोड़करराज्यकीयहऊर्जावानमहिलाएंअबऔद्योगिककारोबारमेंअपनाकरियरसंवाररहीहैं।एकअगस्त2020तकप्रदेशमें201महिलाओंनेएमएसएमईकेतहतउद्योगस्थापितकिए।इनउद्योगोंमें32.92करोड़सेअधिकनिवेशकियागयाहै।महिलाउद्यमियोंकोराज्यकेसूक्ष्म,लघुऔरमध्यमउद्यमसंस्थान(एमएसएमई)से9.20करोड़कीसब्सिडीदीजाचुकीहै।इससेयहअपनेआसपासकीअन्यमहिलाओंऔरयुवाबेरोजगारोंकोभीउद्यमितासेजुड़नेकेलिएप्रोत्साहितकररहीहैं।

महिलायोजनाकेदिखाईनईराह

राज्यमेंमहिलाउद्यमियोंकेलिएविशेषप्रोत्साहनयोजनासबसेपहले15अगस्त2015कोशुरूकीगईथी।इसयोजनामेंमहिलाओंकोउद्योगस्थापितकरनेकोऋणदियाजाताहै,जिसमें20सेलेकर25फीसदतकसब्सिडीदीजातीहै।विशेषप्रोत्साहनयोजनाकामुख्यउद्देश्यमहिलाओंमेंउद्यमिताऔरकौशलविकासकासृजनकरनाहै।जिससेमहिलाएंअपनाउद्यमस्थापितकरआत्मनिर्भरबनेंऔरसमाजमेंरोजगारप्रदाताबनकरअन्यकोभीरोजगारकेअवसरपैदाकरें।

उत्तराखंडकेचारमुख्यजिलोंमेंदेहरादूनमें51,उधमसिंहनगरमें48,हरिद्वारमें34औरनैनीतालमें23महिलाउद्यमीहैं।देहरादूनमेंसिद्दकीसिस्टर्सकेनामसेपहचानबनाचुकीअनिलाऔरसाइनासिद्दकीहैंडीक्राफ्टकेसामानकीस्टॉललगाकरस्वयंकेरोजगारकेसाथअन्यकोभीस्वरोजगारसेजोड़रहीहैं।

आपभीबनसकतीहैंमहिलाउद्यमी

महिलाउद्यमीसेआशयऐसीमहिलासेहै,जिन्होंनेस्वयंकेस्वामित्वमेंउद्यमस्थापितकियाहो।साथहीस्थापितउद्योगकेनिवेशमेंउनकीहिस्सेदारीकमसेकम51फीसदहो।उत्तराखंडमेंआनेवालेपांचसालोंमेंमहिलाउद्यमियोंकीसंख्याएकहजारपरहोजाएगी।

यहआंकड़ेहैंउत्साहवर्धक

-उत्तराखंडमेंमहिलाउद्यमी:201

-कुटीरऔरलघु,मध्यमउद्यमितामेंनिवेश:32करोड़,92लाख,21हजार

-सरकारसेमिलाअनुदान:नौकरोड़,20लाख,11हजाररुपये

-पूंजीगतसब्सिडीयोजनाकीलाभार्थीमहिलाएं:86

-ब्याजसब्सिडीयोजनाकीलाभार्थीमहिलाएं:115

-पंजीगतसब्सिडीमेंनिवेश:17करोड़,दोलाख,एकहजाररुपये

-ब्याजउपादानयोजनामेंनिवेश:15करोड़,32लाख,19हजाररुपये

उद्योगोंमेंइनकाहोरहाकारोबार

महिलाउद्यमीस्वामित्ववालीइकाइयोंमेंफूडप्रोसेसिंगवर्क,कपड़ोंकीरंगाई,स्कूलीड्रेसतैयार,चटनीअचार,बिस्किट,बैकरीउद्योग,कैरीबैग,ऊनऔरधागा,घरकेसजावटीसामान,फर्नीचरउद्योग,कृषिउपकरण,दवाउद्योग,फेसक्रीम,आकर्षकउपहारशामिलहैं।

यहभीपढ़ें:कोरोनाकालमेंअटालकेशिक्षकोंकीनईपहल,विद्यार्थियोंकेघरजाकरउनकीपढ़ाईमेंकररहेमदद

उद्योगनिदेशकसुधीरचंद्रनौटियालकाकहनाहैकिप्रदेशसरकारकीओरसेमहिलाउद्यमियोंकोहरसंभवमदददीजारहीहै।मैदानीजिलोंसेहीनहींदूरदराजकेपहाड़ीइलाकोंसेभीमहिलाएंउद्यमितामेंरुचिलेरहीहैं।आनेवालेदोवर्षोंमेंउत्तराखंडकीमहिलाशक्तिउद्यमितामेंऔरबेहतरकार्यकरेगी,इसकीपूरीउम्मीदहै।नवाचारमेंभीमहिलाएंआगेआरहींहैं।

यहभीपढ़ें:फोटोग्राफीकेहुनरनेदिलाईपहचान,रुढ़ियोंकोतोड़महिलाएंभीकमारहीनाम;जानें-उनकासफर