जमुई।उत्तरवाहिनीबरनारनदीकेतटपरअवस्थितमांब्रह्मादेवीस्थानशनिवारकोभक्तोंकेसैलाबसेपटादिखा।मौकाथामाघीपूर्णिमाकेमौकेपरयहांआयोजितहोनेवालेवार्षिकमेलेका।जिलेकेविभिन्नप्रखंडोंसेबड़ीसंख्यामेंश्रद्धालुओंकाआगमनमांब्रह्मादेवीकीमहिमाकाबखानकररहाथा।ब्रह्मामुहूर्तसेहीभक्तजनबरनारनदीमेंस्नानकरमांकीपूजा-अर्चनाकरतेदिखे।क्षेत्रमेंघरोंकीकुलदेवीकेरूपमेंस्थापितवपूजितमांब्रह्मादेवीअपनेभक्तोंकीमनोकामनापूरीकरनेकेलिएजानीजातीहैं।यहीकारणहैकिपूरीआस्थाकेसाथभक्तजनमाताकेदरबारमेंआकरहाजिरीलगातेहैं।मन्नतेंपूरीहोनेकेबादलोगनिर्धारिततिथिकोमुंडनकार्यभीसंपन्नकरातेहैं।माघपूर्णिमाकेसाथहीयहांभादोमासकीपूर्णिमाकोभीमेलेकाआयोजनहोताहै।

मंदिरकाहैऐतिहासिकमहत्व

ब्रह्मादेवीस्थानकाइतिहास400वर्षसेभीअधिकपुरानाहै।तबसेमांब्रह्मादेवीस्थानलोगोंकीअसीमआस्थाकाकेंद्रबनाहुआहै।कुलदेवीकेरूपमेंजानीजानेवालीमांब्रह्मादेवीभक्तोंकेलिएसाक्षातमनोकामनापूरीकरनेवालीहैं।मंदिरमंदिरभव्यहोयानहींलेकिनमांकीमहिमाकीभव्यताकाअंदाजायहांपहुंचेभक्तोंकीभीड़बतादेतीहै।

सामाजिकसमरसताहैमेलेकीविशेषता

हरजातिकेलोगमेलेमेंआकरमांब्रह्मादेवीकीपूजा-अर्चनाकरतेहैं।कालांतरमेंमेलेकेदौरानयहांबच्चोंकेलिएमनोरंजनकीव्यवस्थावमिठाइयोंकीदुकानेंभीसजतीहैं।दूरदराजगांवोंसेआएलोगोंकायहमिलनस्थलभीहै।मेलेकेदिननैहरसेआईमांवससुरालसेआईबेटियोंकापरिवारयहांएकसाथबैठकरएकदूसरेसेढेरसारीबातेंकरतेहैं।घरसेलाएकलेवाकुटुम्बजनोंकोयहांअलौकिकआनंदप्राप्तकरतेहैं।पारिवारिकसमस्याओंकेनिदानकेलिएमेलाकारगरसाबितहोतारहाहै।मेलेकेदिनरिश्तेदारोंकीउपस्थितिमेंदोनोंपक्षअपनेपुरानेपारिवारिकविवादकोयहांनिपटालेतेहैं।

By Farmer