प्रियमवर्मा।आर्थिकपहलुओंऔरसांस्कृतिकमूल्योंकागठजोड़देशकोस्वाभाविकविकासकीओरलेजाताहै।इनकीगतिसमानांतरनहोनेपरबीचकाअंतरहीआंदोलनोंकारूपलेताहै।यहआंदोलनएकलभीहोसकताहैऔरसामूहिकभी।मूर्तभीहोसकताहैऔरअमूर्तभी,लेकिनएकबाततयहैकिदोनोंपरिणामकीओरअग्रसरहोतेहैं।उदाहरणकेतौरपर,औपनिवेशिकब्रिटिशराजकेखिलाफकईआंदोलनहुए,जिनकापरिणामआजादीकेरूपमेंमिला,वहींसमय-समयपरएकलप्रयाससेसामाजिकहितमेंकईबदलावहुए,जिनकेपरिणामस्वरूपसतीप्रथाकाअंतऔरविधवापुनर्विवाहवजीवनशैलीमेंबदलावहुआ।अबसवालयहहैकिसफलताहोतीक्याहैऔरकौनसफलहैयाकौनज्यादासफलहै?

दरअसल,महत्वपूर्णयहनहींहैकिआपसफलहैं,बल्किमहत्वपूर्णयहहैकिआपउतनेसफलहैंजितनीआपकेअंदरयोग्यताहै।सारीबातोंकासारयहीहैकिआपकितनेसफलहोसकतेहैं?इसलिएस्वकोजाननाजरूरीहै।स्वकीक्षमताकोपहचानभावनात्मकरहतेहुएआध्यात्मिकपरिणामहीअसलमेंसफलताहैयाकहाजासकताहैकिअगरअधिकतमपरिणामचाहतेहैंतोकिसीकेस्वकोजानकरदिशातयकरें,कामकरेंयाकामलें।

सीमाढाकानेकायमकीमिसाल:अबबातकरतेहैंदिल्लीपुलिसमेंतैनातएकमहिलाहेडकॉन्स्टेबलसीमाढाकाकी,जिन्होंनेकरीबतीनमहीनेकेदौरान76गुमशुदाबच्चोंकीतलाशकरनेमेंकामयाबीहासिलकी।इसउपलब्धिकेबादसीमाढाकाकोआउटऑफटर्नप्रमोशनदियागया।उनसेबातकरनेपरपताचलाकिउनकेलिएयहसाहससेज्यादाजुनूनकाविषयहै।संवादकीशुरुआतहीवहकमसमयदेपानेकेआग्रहकेसाथकरतीहैं।बतातीहैंकिअन्यराज्योंसेमददकेलिएकॉलआरहीहैंऔरइसबातचीतकेचक्करमेंवहअपनेनएअसाइनमेंट्सपरकमसमयऔरध्यानदेपारहीहैं।

संक्षिप्तमेंअपनेपरिवारकेबारेमेंबतातीहैंऔरकामसमझातीहैं।यहपूछनेपरकिजिसकामसेउनकोयहउपलब्धिमिली,इसकेबारेमेंक्याकहेंगी?वहबतातीहैंकिपरिवारमेंपहलेशिक्षकबननेपरजोरदियाजारहाथा,अचानकसेयहनौकरीमिलगईतोबसअपनाकामईमानदारीसेकररहीहूं।इसकेपीछेकोईमाíमकयादयाउद्देश्यनहींहै,बसकाममेंसमर्पणपसंदहै।अबअगरइसघटनाकीसफलतावालेपहलूपरबातकरेंतोसमझपाएंगेकियहांसीमाढाकास्वकीक्षमतापहचानतीहैं,भावनात्मकहैं,परआध्यात्मिकपहलूपरचर्चानहींकरतींऔरअसामान्यपरिणामदेतीहैं।इसकाअर्थयहहुआकिवहभावनात्मकलब्धिकीओरअग्रसरहैं।

भावनात्मकलब्धि,बुद्धिलब्धिकेबादमिलेधरातलपरबनेरहनेकेलिएउपयोगीहोतीहै।बुद्धिलब्धिकीसर्वप्रथमव्याख्या1912मेंविलियमस्टर्ननेकी।यहमानसिकआयुकोकालानुक्रमिकआयुकेसाथविभाजितकरकेऔरपरिणामको100सेगुणाकरकेप्राप्तकियाजाताहै।भावनात्मकलब्धिशब्दकासबसेपहलेप्रयोगजॉनडीमेयरने1990मेंकिया,जबकिआध्यात्मिकलब्धिकीचर्चापहलीबारजोहरने1997मेंकी।कहतेहैंकिआइंस्टीनकीबुद्धिलब्धिसबसेज्यादाथी,परवहगांधीकेसमर्थकथे।भावनात्मकलब्धिअमूमनसभीबड़ेराजनेताओं,बड़ेउद्योगपतियों,सामाजिककार्यकर्ताओंवख्यातिप्राप्तनौकरशाहोंमेंहोतीहै।इसेअभ्याससेसुधाराभीजासकताहै।

भारतकोआध्यात्मिकदेशकहाजाताहै।इसकाअर्थपूजा-पाठ,धर्मयामजहबसेजुड़ाहोनानहींहै।अध्यात्मशब्दआत्मनकेसाथअधिउपसर्गजोड़करबनाहै।मतलबआधारकेअर्थमेंशाब्दिकअर्थहुआआत्मासेसंबंधित।इसकोलेकरबुद्धयामहावीर,कबीरयानानककीअपनीव्याख्याएंहैं।इतनाकहसकतेहैंकिअस्तित्वमात्रजिसऊर्जाकेआधारपरखड़ाहोताहै,उसेआत्माकहसकतेहैं।आध्यात्मिकहोनेकाअर्थआत्मिकहोनेसेहै।साधारणअर्थोमेंस्वयंकोसभीमेंऔरसभीमेंस्वयंकोदेखनाव्यक्तिकोआध्यात्मिकबनाताहै।यहस्वयंकोजानेबिनासंभवनहींहै।हिटलरऔरनेपोलियनबोनापार्टभावनात्मकलब्धिकेउदाहरणहैं,जबकिमहात्मागांधीआध्यात्मिकलब्धिकेउदाहरणहैं।गांधीकेरामराजकीकल्पना,हिटलरऔरनेपोलियनकेबसकीबातनहीं।

इससेएकबाततोसमझआतीहैकियदिसफलतमहोनाचाहतेहैंतोआध्यात्मिकलब्धिविराटकरनीहोगी।तीनोंहीलब्धियोंकेसटीकउदाहरणहैंस्वामीविवेकानंदजिन्होंनेपश्चिमसेलौटकरदेशवासियोंकेनामएकसंदेशदियाथा,जिसपवित्रप्यारकेसाथपश्चिमकेलोगोंनेमुङोग्रहणकियाथा,वहनिस्वार्थहृदयकेलिएहीसंभवहै।उसदेशकेप्रतिमैंकृतज्ञहूं।लेकिनइसमातृभूमिकेप्रतिहीमेरेसारेजीवनकीभक्तिअर्पितहैऔरअगरमुङोसहस्त्रबारभीजन्मग्रहणकरनापड़े,तबउससहस्त्रजीवनकेप्रतिमुहूर्तमेरेदेशवासियोंकाहोगा।हेमेरेबंधुओं,मेरापल-पलतुमलोगोंकीहीसेवामेंअर्पितहोगा।

स्वामीविवेकानंदकाकर्मक्षेत्रबुद्धिलब्धिकाउदाहरणहै,देशवासियोंकेप्रतिकृतज्ञताभावनात्मकलब्धिकापरिचयहैऔरस्वऔरपरकेअंतरकोखत्मकरतेहुएआत्माकोसमझजानाआध्यात्मिकलब्धिकाउदाहरणहै।इससंदर्भमेंयहतथ्यजाननाआवश्यकहैकिजिसव्यक्तिकेअंदरबुद्धिलब्धिहो,जरूरीनहींकिउसकेअंदरभावनात्मकऔरआध्यात्मिकलब्धिभीहो।यहीनियमभावनात्मकलब्धिपरभीलागूहोगा,लेकिनआध्यात्मिकलब्धिवालेव्यक्तिकेअंदरबुद्धिऔरभावनात्मकलब्धिदोनोंअवश्यहोंगी।

पतिअनीतऔरबेटेकेसाथसीमाढाका।

करियरविशेषज्ञोंकीराय:करियरकाउंसलरअंशुमानद्विवेदीकीमानेंतोवर्तमानमेंसंस्थानोंयाएकेडमी,यहांतककिप्रशासनिकसेवाओंसेपहलेकोचिंगमेंप्रवेशकेलिएभीकाउंसलिंगकीजातीहैकिकोईव्यक्तिकिसीक्षेत्रविशेषकेलिएहैभीयानहीं।यदिसमाजकेमुताबिककोईक्षेत्रसर्वश्रेष्ठहैतोउसक्षेत्रमेंजानेवालेएकसमानपरिणामक्योंनहींदेपाते,सभीसंतुष्टक्योंनहींहोपाते।उदाहरणकेतौरपरपिछलेपांचवर्षोमेंकईअधिकारियोंनेअपनाक्षेत्रक्योंछोड़ा?इन्हींसबकारणोंसेभारतमेंअबसंस्थानोंमेंप्रवेशसेपहलेकाउंसलिंगकीजातीहै।

कंसल्टेंसीकेटॉपथ्रीग्रुपकीएचआरस्पेशलिस्टअनन्याकाकहनाहैकिभारतमेंज्यादातरमैनेजमेंटकंपनियोंमेंआइक्यू,ईक्यूऔरएसक्यूटेस्टलिएजातेहैं।यदिकोईव्यक्तिउसीक्षेत्रसेहैऔरलंबेसमयसेहैतबउसेछूटदीजातीहै,लेकिनपहलीबारकिसीभीक्षेत्रमेंकदमरखनेसेपहलेरुचिऔरक्षमताकेसाथउद्देश्यकाआकलनकियाजाताहै।वहींमूडीजकीएचआरसोनमचोपड़ाबतातीहैंकिचूंकिसफलताकेमानकोंकोध्यानमेंरखतेहुएकुछवरिष्ठपदोंपरभावनात्मकलब्धिवालाव्यक्तिचाहिएहोताहैऔरचूंकिभावनात्मकलब्धिविकसितभीकीजासकतीहै,इसलिएकुछकंपनियोंमेंप्रमोशनसेपहलेइक्यूकीट्रेनिंगभीकराईजातीहै।टेस्टकीप्रक्रियाकेबारेमेंवहकहतीहैंकिसभीपदोंकेलिएइसमेंएकहीसवालपूछाजाताहैकिआंखबंदकरनेपरवहखुदकोकहांमहसूसकरतेहैं।नशब्दसंख्यादीजातीहैऔरनहीकोईसमय।बसलेखनकेआधारपरउनकाकामतयहोताहै।यदिआकलनसहीहैतोसफलताकाप्रतिशतसंतोषजनकरहताहै।

दरअसलज्यादातरमामलोंमेंकरियरकाचुनावकुछकारणोंकेप्रभावमेंआकरकियाजाताहै,फिरवहकारणचाहेनैतिकदबावहोयानिर्णयलेपानेकीक्षमताकाअभाव।कोईपिताकासपनापूराकरनेकेलिएइंजीनियरबननाचाहताहैतोआइआइटीमेंप्रवेशलेलियाऔरइंजीनियरबनकरनिकला।वहींकोईदेशकीसबसेसम्मानजनकसेवाप्रशासनिकसेवामेंआनेकेलिएजीतोड़मेहनतकरआइएएसबनगया।यहांमहत्वपूर्णहैकिवहइंजीनियरबनकरभीइंजीनियरहैयानहींयाअफसरबनकरभीबदलावकरपायायानहीं।ऐसाज्यादातरइंजीनियरिंग,मैनेजमेंटऔरप्रशासनिकसेवाओंमेंहोताहै।इनमेंसेज्यादातरलोगधीरेधीरेयातोअवसादकाशिकारहोजातेहैं,दूसरेक्षेत्रोंमेंचलेजातेहैंयाफिरएकसामान्यजीवनहीबितापातेहैं।एकमुकामपरहोकरभीसफलनहींहोपाते।इसेकहेंगेकिमंजिलपरहोकरभीसफलनहोपाना।अत:सफलताकीराहस्वसेहोकरजातीहै।

अंतमेंगीताज्ञानसेविषयकोसमापनकीओरलेचलतेहैं,भगवानश्रीकृष्णकेसफलताकेलिएदिएउपदेशोंपरगौरकरतेहैं।दरअसल,गीतामेंउनसभीमार्गोकीचर्चाकीगईहै,जिनपरचलकरबुद्धत्वप्राप्तकियाजासकताहै,खुदकेस्वरूपकोपहचानाजासकताहैयाआत्मज्ञानप्राप्तकियाजासकताहै।वहकहतेहैंकिमनुष्यअपनेविश्वाससेनिर्मितहोताहै।जैसावहविश्वासकरताहै,वैसावहबनजाताहै।व्यक्तिजोचाहेबनसकताहैयदिवहविश्वासकेसाथइच्छितवस्तुपरलगातारचिंतनकरे।हरव्यक्तिकाविश्वासउसकीप्रकृतिकेअनुसारहोताहै,इसलिएविश्वासकीशक्तिकोपहचानेंगेतोसफलतातकखुदबखुदपहुंचजाएंगे।

Coronavirus:निश्चिंतरहेंपूरीतरहसुरक्षितहैआपकाअखबार,पढ़ें-विशेषज्ञोंकीरायवदेखें-वीडियो

By Elliott