टिहरी,जेएनएन।बूढ़ाकेदारटिहरीजनपदकाप्रसिद्धधामहै।दोनदियोंबालगंगावधर्मगंगाकेमध्ययहधामस्थितहै।यहांपरदोनोंनदियोंकासंगमभीहै।पूर्वमेंकेदारनाथपैदलयात्राकायहमुख्यपड़ावथाउससमयबूढ़ाकेदारधामकेदर्शनकिएबिनाकेदारनाथकीयात्राअधूरीमानीजातीथी।बूढ़ाकेदारनाथकेनामसेहीइसगांवकानामभीबूढ़ाकेदारपड़ाजोधार्मिकदृष्टिसेकाफीमहत्वपूर्णहै।

बूढ़ाकेदारनाथधामकीनींवआदिगुरूशंकराचार्यनेरखीथी।मंदिरकेअंदरपत्थरकीशिलाहै,जिसमेंपांडवोंकीआकृतियांउभरीहैं।बतायाजाताहैकिगोत्रहत्यासेमुक्तिपानेकेलिएपांडवइसस्थानसेस्वर्गारोहणकेलिएनिकलतेथेतोयहांपरभगवानशिवनेपांडवोंकोवृद्धव्यक्तिकेरूपमेंदर्शनदिएथे,जिसकेबादइसस्थानकानामबूढ़ाकेदारपड़ा।इसमंदिरकेपुजारीनाथजातिकेलोगहोतेहैं।इसीस्थानसेप्रसिद्धधार्मिकपर्यटकस्थलसहस्रतालपहुंचाजाताहै।

श्रावणमासमेंपैदलकांवड़यात्राकेदौरानशिवभक्तबूढ़ाकेदारकेदर्शनकरतेहैं।बूढ़ाकेदारकेदर्शनकेलिएदूर-दराजक्षेत्रोंसेश्रद्धालुयहांपहुंचतेहैं।यहकाफीप्राचीनकेदारमेंएकमानाजाताहै।वर्तमानमेंकेदारनाथकीपैदलकांवड़यात्रायहींसेहोकरनिकलतीहै।यहांपरबूढ़ाकेदारकाप्राचीनमंदिरथा,जिसेअबभव्यरूपदियाहै।क्षेत्रहीनहींदूर-दराजक्षेत्रकेलोगोंकीइसधामकेप्रतिअटूटआस्थाहै।

जिलामुख्यालयसेयहधामकरीब85किमीदूरहै।जिलामुख्यालयसेयहांकेलिएसीधीबससेवाहै।घनसालीसेछोटेवाहनोंसेभीयहांतकआसानीसेपहुंचाजासकताहै।बसवछोटेवाहनकीसुविधाबूढ़ाकेदारतकहै।यहांसेकुछहीदूरीपरबूढ़ाकेदारधामहै।उत्तरकाशी,धौंतरीहोतेहुएभीश्रद्धालुबूढाकेदारपहुंचसकतेहैं।

अमरनाथ(पुजारी,बूढ़ाकेदारनाथ)काकहनाहैकियहमंदिरकाफीप्राचीनमंदिरहै,यहकाफीप्राचीनकेदारमेंएकहै।यात्रासीजनकेदौरानदेशकेकईजगहोंसेश्रद्धालुबूढ़ाकेदारकेदर्शनकोआतेहैं।बूढ़ाकेदारमेंवर्षभरश्रद्धालुओंकेलिएकपाटखुलेरहतेहैं।श्रावणमासमेंमंदिरमेंकाफीभीड़लगीरहतीहै।

भूपेंद्रनेगी(अध्यक्षबूढ़ाकेदारमंदिरसमिति)काकहनाहैकिबूढ़ाकेदारधार्मिकपर्यटनकीदृष्टिसेमहत्वपूर्णहै।पहलेयहमंदिरकाफीप्राचीनथा,जिसेअबभव्यरूपदियागयाहैजिसमेंस्थानीयलोगोंकाभीसहयोगरहाहै।पूर्वमेंयहकेदारनाथकामुख्यपैदलमार्गभीथा।यहांबड़ीसंख्यामेंश्रद्धालुपहुंचेहैं।इसस्थानकीधार्मिकमहत्वकोदेखतेहुएक्षेत्रकेलोगइसेपांचवाधामघोषितकरनेकीमांगकरतेआरहेहैं।

यहभीपढ़ें:ChardhamYatra:आपदाकेछहसालबादकेदारनाथमेंबनानयाकीर्तिमान,यात्रियोंकाआंकड़ापहुंचासातलाखपार

यहभीपढ़ें:धनसिंहबर्त्वालकीलिखीबदरीनाथआरतीकोमिलीमान्यता,पढ़िएपूरीखबर

यहभीपढ़ें:गुरुपूर्णिमा2019:धूमधामसेमनाईगईगुरुपूर्णिमा,जानिएइसकामहत्व