जागरणसंवाददाता,सोनीपत:पंचायतीराजविभागसेजेई(जूनियरइंजीनियर)एवंहालमेंशिक्षाविभागमेंप्रतिनियुक्तयोगाचार्यलक्ष्मीनारायणबोहरापिछलेकाफीसालोंसेजिलेकेलोगोंमेंयोगसेस्वास्थ्यकीअलखजगारहेहैं।नौकरीकरनेकेसाथहीवहयोगकक्षाएंलगाकरआसपासकेबच्चोंवअन्यलोगोंकोयोगप्रेमीबनारहेहैं।स्कूलों,पार्कोंकेअलावाकारागारमेंभीनियमितयोगलगारहेहैं।इससेनकेवललोगोंकेस्वास्थ्यमेंसुधारआरहाहै,वहींकईकीगंभीरबीमारीकोखत्मकरनेमेंभीअहमभूमिकानिभाईहै।

पटेलनगरनिवासीबोहरापंचायतीराजमेंनौकरीकररहेथे।काफीसालपहलेउनकीबेटीकोखांसीवनजलाहुआथा।उन्होंनेकईबड़ेअस्पतालोंमेंअपनीबेटीकाइलाजशुरूकराया,लेकिनतबतकउनकीबेटीकानजलालाइलाजबीमारीकारूपधारणकरचुकाथा।उन्होंने2004मेंयोगशुरूकिया।साथहीबेटीकोभीयोगक्रियाएंशुरूकराईं।इसकेकुछहीसप्ताहबादउनकीबेटीकीबीमारीभीजड़सेखत्महोगई।इसकेबादउन्होंनेकड़ेअभ्यासकेसाथयोगप्रशिक्षणलियाऔरइसेएकमुहिमकारूपदेदिया।लक्ष्मीनारायणपिछलेकरीब12सालसेसुबहसाढ़ेतीनबजेउठकरयोगकीकक्षाएंलेनेपार्कचलेजातेहैं।करीबदोघंटेतकलोगोंकोविभिन्नयोगक्रियाएंकरातेहैं।जिलेमेंलगरहे200सेज्यादाशिविर,शिक्षाविभागमेंबनेयोगाचार्य

लक्ष्मीनारायणबोहराजिलापतंजलियोगसमितिकेप्रभारीभीहैं।वहलोगोंनेनियमितयोगकीअलखजगारहेहैं।यहीकारणहैकिआजजिलेमें74शिविरमहिलाओंऔरकरीब150शिविरविभिन्नपार्कों,सामुदायिककेंद्रों,स्कूलोंआदिमेंलगरहेहैं।इनशिविरोंमेंहररोजसैकड़ोंयुवा,जवान,बुजुर्गयोगकरतेहैं।इससेकाफीलोगोंकीबीमारियांभीखत्महोचुकीहैं।इसीकेमद्देनजरहालहीमेंसरकारनेपंचायतीराजविभागनेउनकीप्रतिनियुक्तिशिक्षाविभागमेंबतौरयोगाचार्यकीहै।लक्ष्मीनारायणबोहराकाकहनाहैकियोगमात्रव्यायामनहींहै,बल्कियहहमारीजीवनशैलीमेंपरिवर्तनलाकरहमारेभीतरजागरूकताउत्पन्नकरताहै।इससेमनुष्यकीबीमारीतोठीकहोतीहीहै,साथहीसोचमेंभीपरिवर्तनहोताहै।इसकेअलावायोगसेलोगोंमेंजागरूकताबढ़रहीहै।

By Field