बेतिया।लॉकडाउनकेचलतेमहानगरोंकीबंदहुई।औद्योगिकइकाइयोंनेयुवाओंऔरमजदूरोंकोगांवलौटनेकोमजबूरकरदियाहै।लेकिनरोजगारछूटनेकेचलतेगांवलौटतेहीयुवाओंऔरमजदूरोंकासंकल्पऔरअधिकमजबूतहोगयाहै।प्रदेशकेगांवलौटेयुवाओंमेंअबजोशदिखरहाहैतोप्रवासीमजदूरभीमेहनतपरजोरलगारहेहैं।तस्वीरहैनरकटियागंजप्रखंडकेबिशनपुरवागांवकी।प्रवासियोंकीप्रदेशसेवापसीकेबादबिशनपुरवागांवकीतस्वीरबदलनेलगीहै।गांवलौटेयुवासपनोंकोहकीकतमेंबदलनेमेंजुटेहैं।

नरकटियागंजशहरसेकरीब5किलोमीटरदूरीपरबसाबिशनपुरवागांवअन्यगांवोंकीतरहखुशहालहै।लॉकडाउननेखेतीकिसानीपरनिर्भरइसगांवकेमजदूरोंकीसोचबदलदीहै।अंकितकुमारग्रामीणोंकोस्वच्छताकाटिप्सदेरहेहैं।वहींबच्चोंकोनैतिकशिक्षाकापाठपढ़ारहे।गांवकेबुजुर्गबतातेहैंकिदिल्लीमुंबईजाकरमजदूरीकरनाफैशनबनगयाथा।मजदूरोंकेअभावमेंहमखेतीनहींकरपातेथे।खेतखालीरहजातेथे।लॉकडाउनकेबादमजदूरोंकोगांवलौटतेहीकाममिलगया।वासुदेवतिवारीबतातेहैंकिअबप्रवासीमजदूरगांवमेंहीकामकरनिवासीबनकररहेंगे।लॉकडाउनकेपूर्वलौटेरविकुमार,आदित्यकुमार,अभिषेककुमार,जानूतिवारीआदिबतातेहैं।किदिल्लीकेएककंपनीमेंकामकरतेथेऔरसामूहिकप्रयासकीबदौलतरोजगारकेलिएप्रयासकरेंगे।बयान

महानगरोंमेंभटकनेकीवजहगांवकेखेतोंमेंमेहनतकरसमृद्धिप्राप्तकरसकतेहैं।शहरछोड़गांवलौटेलोगअबयहीमेहनतमजदूरीकरएकअच्छीशुरुआतकीहै।

अंकितकुमार,ग्रामीण

By Duffy