आधर कर्ड बनने के लए डक्यूमेंट 2019

बनकटा क्षेत्र जगदीशपुर, कड़सरवा बुजुर्ग, नियरवा, मिश्रौली, बलुअन आदि गांवों में कालाजार के मरीज सबसे ज्यादा निकल रहे हैं। इन गांवों में आइआरएस छिड़काव व द्वितीय चक्र में छिड़काव कराया जा रहा है। इन गांवों में दो चक्रों में दवा का छिड़काव बहुत जल्द शुरू होगा, जिससे बालू मक्खी को मारा जा सके। बिहार में कालाजार के मरीज ज्यादा हैं। वहां आने जाने के कारण भी लोग संक्रमित हो जा रहे हैं। 15 दिन से अधिक बुखार आए तो इसकी जानकारी देने के लिए प्राइवेट डाक्टरों व लोगों को जागरूक किया गया है। वो इसकी सूचना जिला मलेरिया विभाग व नजदीक के सरकारी अस्पताल में दे सकते हैं। जिससे उनकी जांच कर कालाजार का निश्शुल्क इलाज दिया जा सके। कालाजार उन्मूलन अंतिम दौर में चल रहा है। ऐसे में मलेरिया विभाग पूरी ताकत के साथ बिहार के सीमावर्ती गांवों में बालू मक्खी के समूल विनाश के लिए लगा है। उधर बिहार के सीमावर्ती गांवों में भी बिहार के अधिकारी काम कर रहे हैं। सीमावर्ती गांवों पर जिला मलेरिया विभाग की विशेष नजर है। तकरीबन 12 गांव हैं, जहां बालू मक्खी को मारने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। यहां बहुत जल्द दो चक्रों का छिड़काव कार्य शुरू हो जाएगा। लोगों को बालू मक्खी से बचाव के लिए जागरूक किया जा रहा है। जनपद कालाजार उन्मूलन की तरफ तेजी से बढ़ रहा है।

महालक्ष्मी के व्रत पर लोगों ने अपने बच्चों के

Sep 23, 2022 Duncan

कमलकोहली,अमृतसरसातअक्टूबरसे16अक्टूबरतकचलनेवालेश्रीलंगूरमेलेकेलिएमंगलवारकोकईपरिवारोंनेअपनेबच्चोंकेलिएलंगूरबननेवालेवस्त्रल